Ek Mein hi nahin Un par Qurbaan Zamaana hai || एक में ही नहीं उन पर, क़ुर्बान ज़माना है || Lyrics

 

Roman(ENG):


Ek Mein hi nahin Un par Qurbaan Zamaana hai
Jo Rabbe Do Aalam ka Mahboob Yagaana hai

Kal Pul se Hamein Jisne , khud paar lagaana hai
Zahra ka Wo Baaba hai , Hasnain ka Naana hai

Ek Mein hi nahin Un par Qurbaan Zamaana hai
Jo Rabbe Do Aalam ka Mahboob Yagaana hai

Aao Dare Zahra par Failaaye hue Daaman
Hai Nasl Kareemon ki , Lajpaal Gharaana hai

Ek Mein hi nahin Un par Qurbaan Zamaana hai
Jo Rabbe Do Aalam ka Mahboob Yagaana hai

Izzat se na mar jaaein , Kyun Naame Muhammad par
Yunhin Kisi Din Hamnein Duniya se to jaana hai

Ek Mein hi nahin Un par Qurbaan Zamaana hai
Jo Rabbe Do Aalam ka Mahboob Yagaana hai

Sarkaare Madina ki hun Pushte Panaahi mein
Duniya ki hai kya Parwaah, Dushman jo Zamaana hai

Ek Mein hi nahin Un par Qurbaan Zamaana hai
Jo Rabbe Do Aalam ka Mahboob Yagaana hai

Ye Kehke Dare Haq se , Li Maut mein kuchh Mohlat
Milaad ki Aamad hai, Mehfil ko Sajaana hai

Ek Mein hi nahin Un par Qurbaan Zamaana hai
Jo Rabbe Do Aalam ka Mahboob Yagaana hai

Mehroome Karam Isko rakhiye na Sare Maheshar
Jaisa hai Naseer aakhir, Saaeel to purana hai

Ek Mein hi nahin Un par Qurbaan Zamaana hai
Jo Rabbe Do Aalam ka Mahboob Yagaana hai




हिंदी(HINDI):


एक में ही नहीं उन पर, क़ुर्बान ज़माना है
जो रब्बे दो आलम का मेहबूब यगाना है


कल पुल से हमें जिसने , खुद पार लगाना है
ज़हरा का वो बाबा है, हसनैन का नाना है

एक में ही नहीं उन पर, क़ुर्बान ज़माना है
जो रब्बे दो आलम का मेहबूब यगाना है

आओ दरे ज़हरा पर , फैलाए हुए दामन
है नस्ल करीमों की, लाजपाल घराना है

एक में ही नहीं उन पर, क़ुर्बान ज़माना है
जो रब्बे दो आलम का मेहबूब यगाना है

इज़्ज़त से न मर जाएं, क्यों नाम मुहम्मद पर
यूँहीं किसी दिन हमने, दुनिया से तो जाना है

एक में ही नहीं उन पर, क़ुर्बान ज़माना है
जो रब्बे दो आलम का मेहबूब यगाना है

सरकार मदीना की हूँ पश्ते पनाही में
दुनिया की है क्या परवाह, दुश्मन जो ज़माना है

एक में ही नहीं उन पर, क़ुर्बान ज़माना है
जो रब्बे दो आलम का मेहबूब यगाना है

ये कहके दरे हक़ से, ली मौत में कुछ मोहलत
मिलाद की आमद है, महफ़िल को सजाना है

एक में ही नहीं उन पर, क़ुर्बान ज़माना है
जो रब्बे दो आलम का मेहबूब यगाना है

मेहरूमे करम इसको रखिये न सरे महेशर
जैसा है नसीर आखिर, साईल तो पुराना है

एक में ही नहीं उन पर, क़ुर्बान ज़माना है
जो रब्बे दो आलम का मेहबूब यगाना है








Comments

Popular Naat Lyrics

Humne Aankhon se dekha nahi hai Magar || Lyrics || Wo Muhammad Madine mein Maujud hai || हमने आँखों से देखा नहीं है मगर || ENG HINDI URDU

Allah humma Sallay Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || अल्लाहुम्म सल्ली अला सैय्यिदिना व मौलाना मुहम्मदिन || ENG HINDI URDU

Wo Jiske liye Mehfile Konain saji hai || Wo Mera Nabi hai Lyrics || वो जिसके लिए महफिले कोनैन सजी है || वो मेरा नबी है || وو جسکے لئے محفل کَونَیْن سجی ہے || Lyrics

Fazle Rabbe paak se beta mera dulha bana || Madani Sehra || Lyrics || फ़ज़्ले रब्बे पाक से बेटा मेरा दूल्हा बना || मदनी सेहरा || Haifz Tahir Qadri

Shahe Do Alam Salam Assalam || शाहे दो आलम सलाम अस्सलाम || Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Tumne Shahe Jeelaan Muje Bagdaad bulaya Lyrics || तुमने शाहे जिलान मुझे बग़दाद बुलाया || Owais Raza Qadri

Bulalo Sarkar Tum Apne Dar Par || Salam Lyrics || बुलालो सरकार तुम अपने दर पर

Aye Khatme Rasool Makki Madani || अये खत्मे रसूल मक्की मदनी || Lyrics || Hafiz Uzair Akhtari

Madine ke Aaqa Salamun Alaik Lyrics || मदीने के आक़ा , सलामुन अलैक

Peerane peer mere shahe jilani Lyrics || पीराने पीर मेरे शाहे जिलानी

Facebook Page