Ata-e-Mustafa Mere Khwaaja Piya Lyrics - अता-ए-मुस्तफा मेरे ख्वाजा पिया - Hafiz Tahir Qadri


'ataa-e-mustafa, mere khwaaja piya



Roman(Eng) :

chiraag-e-chisht, shaah-e-auliya, ghareeb-nawaaz
mere huzur, mere peshwaa, ghareeb-nawaaz

teri shaan khwaaja-e-khwaajgaan
bu badaa ghareeb-nawaaz hai

tu mu'een-e-ummat-e-mustafa
tu saboot-e-rahmat-e-mustafa
tu 'ataa-e-meer-e-hijaaz hai
tu badaa ghareeb-nawaaz hai

hamei.n tune apna banaa liya
hamei.n do jahaa.n se bacha liya
tujhe ghamzado.n ka khayaal hai
tu badaa ghareeb-nawaaz hai

na gine gaye wo shumaar se
jo pale hei.n tere dayaar se
tera dast-e-jood daraaz hai
tu badaa ghareeb-nawaaz hai

'ataa-e-mustafa, mere khwaaja piya
hasan husain se hai aapko nisbat
nabi ki aal ho, 'ali ke laal ho
bayaa.n ho kis zubaa.n se aapki 'azmat

mustafa ne tumhe hind bhejaa, tum muraad-e-nabi ho
hind jis se munawwar hua hai, aap wo roshni ho
rizaa-e-mustafa, habeeb-e-kibriyaa
zamee.n kya hai, falak par aapki shohrat

'ataa-e-mustafa, mere khwaaja piya
hasan husain se hai aapko nisbat
nabi ki aal ho, 'ali ke laal ho
bayaa.n ho kis zubaa.n se aapki 'azmat

ek muddat se hai dil mei.n armaan mai.n bhi ajmer jaau.n
thaam kar tumre roze ki jaali haal dil ka sunaau.n
dil-e-be-taab ki sadaa sun lo sakhi
dikhaa dijiye mujhe wo hasee.n turbat

'ataa-e-mustafa, mere khwaaja piya
hasan husain se hai aapko nisbat
nabi ki aal ho, 'ali ke laal ho
bayaa.n ho kis zubaa.n se aapki 'azmat

ek kaase mei.n dariya duboyaa, dubto.n ko tiraayaa 
jogi jaypaal ko tumne khwajaa ! hai musalmaa.n banaaya
KHuda ki shaan ho, nabi ki jaan ho
zamaana jaanta hai aapki rif'at

'ataa-e-mustafa, mere khwaaja piya
hasan husain se hai aapko nisbat
nabi ki aal ho, 'ali ke laal ho
bayaa.n ho kis zubaa.n se aapki 'azmat

aapko apna sardaar maana, hind ke auliyaa ne
mere saabir ne, waaris piyaa ne, aur ahmad raza ne
tumhi hindul wali, na tumsa hai koi
lab-e-sarkar par hai aapki mid.hat

'ataa-e-mustafa, mere khwaaja piya
hasan husain se hai aapko nisbat
nabi ki aal ho, 'ali ke laal ho
bayaa.n ho kis zubaa.n se aapki 'azmat

tumne taalim tauheed ki di, shirk se hai bachaaya
but-parasti mei.n jo mubtalaa the, unko kalmaa padhaaya
sadaa islaam ki aye Aaseem ! gunj uthi
hui kaafoor kufr-o-shirk ki bid'aat

'ataa-e-mustafa, mere khwaaja piya
hasan husain se hai aapko nisbat
nabi ki aal ho, 'ali ke laal ho
bayaa.n ho kis zubaa.n se aapki 'azmat




हिंदी(HINDI) :

चिरागे चिश्त शहे औलिया गरीब नवाज़
मेरे हुज़ूर मेरे पेशवा गरीब नवाज़


तेरी शान ख्वाजा-इ-ख्वाजगां
तू बड़ा गरीब नवाज़ है

तू मुइने उम्मते मुस्तफा
तू सबूते रहमते मुस्तफा
तू अता-इ-मीरे हिजाज़ है
तू बड़ा गरीब नवाज़ है

हमें तूने अपना बना लिया
हमें दो जहाँ से बचा लिया
तुजे ग़मज़दों का ख़याल है
तू बड़ा गरीब नवाज़ है

न गिने गए वो शुमार से
जो पले हैं तेरे दयार से
तेरा दस्ते जूद दराज़ है
तू बड़ा गरीब नवाज़ है


अता-ए-मुस्तफा मेरे ख्वाजा पिया
हसन हुसैन से है आपको निस्बत
नबी की आल हो अली के लाल हो
बयान हो किस ज़बान से आपकी अज़मत

मुस्तफा ने तुम्हे हिन्द भेजा तुम मुरादे नबी हो
हिन्द जिस से मुनव्वर हुआ है आप वो रौशनी हो
रिज़ा-इ-मुस्तफा हबीबे किब्रिया
ज़मीन क्या है फलक पर आपकी शोहरत

अता-ए-मुस्तफा मेरे ख्वाजा पिया
हसन हुसैन से है आपको निस्बत
नबी की आल हो अली के लाल हो
बयान हो किस ज़बान से आपकी अज़मत


एक मुद्दत से है दिल में अरमान में भी अजमेर जाऊं
थाम कर तुमरे रोज़े की जाली हाल दिल का सुनाऊँ
दिले बेताब की सदा सुन लो सखी
दिखा दीजिये मुझे वो हसीं तुर्बत

अता-ए-मुस्तफा मेरे ख्वाजा पिया
हसन हुसैन से है आपको निस्बत
नबी की आल हो अली के लाल हो
बयान हो किस ज़बान से आपकी अज़मत

एक कासे में दरिया डुबोया डूबतों को तिराया
जोगी जयपाल की तुमने ख्वाजा है मुसलमान बनाया
खुदा की शान हो नबी की जान हो
ज़माना जनता है आपकी रिफ़अत

अता-ए-मुस्तफा मेरे ख्वाजा पिया
हसन हुसैन से है आपको निस्बत
नबी की आल हो अली के लाल हो
बयान हो किस ज़बान से आपकी अज़मत

आपको अपना सरदार माना हिन्द के औलिया ने
मेरे साबिर ने वारिस पिया ने और अहमद रज़ा ने
तुम्ही हिन्दुल वली न तुमसा है कोई
लबे सरकार पर है आपकी मिदहत

अता-ए-मुस्तफा मेरे ख्वाजा पिया
हसन हुसैन से है आपको निस्बत
नबी की आल हो अली के लाल हो
बयान हो किस ज़बान से आपकी अज़मत

तुमने तालीम तौहीद की दी शिर्क से है बचाया
बूत परस्ती में जो मुब्तला थे उनको कलमा पढ़ाया
सदा इस्लाम की अये आसिम  गूंज उठी
हुई काफूर कुफ्रो शिर्क की बिदअत

अता-ए-मुस्तफा मेरे ख्वाजा पिया
हसन हुसैन से है आपको निस्बत
नबी की आल हो अली के लाल हो
बयान हो किस ज़बान से आपकी अज़मत


Comments

Facebook Page

Popular Naat Lyrics

Humne Aankhon se dekha nahi hai Magar Lyrics in English ~ Hindi ~ Urdu

Allah humma Sallay Ala Sayyidina Maulana Muhammad Lyrics in English Hindi Urdu

Wo Mera Nabi hai - Wo Jiske liye Mehfil e Konain saji hai - Lyrics - English Hindi Urdu

Aakhri Roze hein Dil gham-nak muztar Jaan hai Lyrics || Roman (Eng) & हिंदी (Hindi)

Madine ke Aaqa Salamun Alaik Lyrics || मदीने के आक़ा , सलामुन अलैक || مدینے کے آقا سَلاَمٌ عَلَيْكَ

Alwada Alwada Mahe Ramzan Lyrics by Owais Raza Qadri in English ~ Hindi

Hajiyon Mustafa se keh dena Lyrics || हाजियों मुस्तफा से कह देना || حاجیوں ! مصطفیٰ سے کہ دینا

Madina yaad aata hai Lyrics ~ dare aqdas pe haal e dil Lyrics ~ in English ~ HINDI ~ URDU

Maslak ka Tu Imaam hai Ilyas Qadri Lyrics || मसलक का तु इमाम है , इल्यास क़ादरी || مسلک کا تو امام ہے ، الیاس قادری || Roman(Eng) & हिंदी(Hindi)

Aye Shahenshah e Madina As-salat-o-Was-salam Lyrics in English Hindi Urdu