Duniya ka Sabse bada Jashn hai Lyrics || दुनिया का सबसे बड़ा जश्न है || Hafiz Tahir Qadri || Roman(ENG) & हिंदी (HINDI)

 


Roman(ENG):


Assalamu Alayk Ya Ya Rasulallah
Assalamu Alayk Ya Habeebi Ya Nabiyallah

Saj gayi hai Ye Zameen, Saj gaya hai Aasmaan
Mustafa ke Noor se Saj gaya hai Kul Jahaan

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa Salle Ala

Duniya ka Sabse bada Sabse bada Jashn hai
Mere Sarkaar ke Milaad ka Ye Jashn hai

Aaqa ka Jashn hai , Maula ka Jashn hai
Pyaare ka Jashn hai Jashn hai

Jab Baarwi ka Chaand Zamaane pe chha gaya
Butt gir gaye Zameen pe Shaitaan ro padaa
Taare bhi joom joom ke Qadmon mein gir gaye
Kaaba bhi Mustafa ki Salaami ko juk gaya

Saj gayi hai Ye Zameen, Saj gaya hai Aasmaan
Mustafa ke Noor se Saj gaya hai Kul Jahaan

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa Salle Ala

Duniya ka Sabse bada Sabse bada Jashn hai
Mere Sarkaar ke Milaad ka Ye Jashn hai

Sabse bada hai Jashn Khuda ke Habeeb ka
Jinke Tufail banaaye hein Do Jahaan
Hote na Mustafa to na hoti Ye Kaaynaat
Zinda hein Ham Jo Aaj hai Sadqa Rasool ka

Saj gayi hai Ye Zameen, Saj gaya hai Aasmaan
Mustafa ke Noor se Saj gaya hai Kul Jahaan

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa Salle Ala

Duniya ka Sabse bada Sabse bada Jashn hai
Mere Sarkaar ke Milaad ka Ye Jashn hai

Shaane Nabi ka Bayaan Maksade Milaad hai
Aale Nabi se Wafa Maksade Milaad hai
Zikr ho Ashaab ka Maksade Milaad hai

Zindagi mein Roshni,  Barkate Millad hai
Ilm se Ye Dosti , Barkate Milaad hai
Imaan mein Taajgi Barkate Milaad hai

Mustafa ki Guftagu Azmate Milaad hai
Ho rahi hai Chaarsoo Azmate Milaad hai
Aasikon ke Rubaroo Azmate Milaad hai

Aaya hai Aaj Wo Jise Aadam kare Salaam
Har Ek Nabi ka Rabb ne banaaya Jise Imaam
Isaa ko bhi hai Ummati hone ki Aarzu
Yusuf bhi Jispe Qurbaan hai Jibreel hein Gulaam

Saj gayi hai Ye Zameen, Saj gaya hai Aasmaan
Mustafa ke Noor se Saj gaya hai Kul Jahaan

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa Salle Ala

Duniya ka Sabse bada Sabse bada Jashn hai
Mere Sarkaar ke Milaad ka Ye Jashn hai

Tala-Al Badru Alayna , Min Sani Yaatil-Wadaaee
WajabasShukru Alayna, Mada-aa Lillai Daaee

Aaye Nabi to Betiyaan dabne se bach gayin
Bewaaon ki bhi Doliyaan hein fir se saj gayin
Maaon ko Khuld , Beti ko Rehmat bana diya
Deewarein Nafraton ki Zameen mein hai dhans gayi

Saj gayi hai Ye Zameen, Saj gaya hai Aasmaan
Mustafa ke Noor se Saj gaya hai Kul Jahaan

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa Salle Ala

Duniya ka Sabse bada Sabse bada Jashn hai
Mere Sarkaar ke Milaad ka Ye Jashn hai

Karke Charaagaan Saara Jahaan Jagmaga diya
Har Ghar pe Aashikon ne hai Janda laga diya
Langar kahin hai aur kahin Sharbato Sabeel
Usshaaqe Mustafa kabhi hote nahin bakhil

Saj gayi hai Ye Zameen, Saj gaya hai Aasmaan
Mustafa ke Noor se Saj gaya hai Kul Jahaan

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa Salle Ala

Duniya ka Sabse bada Sabse bada Jashn hai
Mere Sarkaar ke Milaad ka Ye Jashn hai

Nabiyo ke Sultaan aaye Marhaba Ya Mustafa
Do Jahaan ki Shaan aaye Marhaba Ya Mustafa
Saahibe Quraan aaye Marahaba Ya Mustafa
Aashikon ki Jaan aaye Marhaba Ya Mustafa
Saiyyido Sardaar aaye Marhaba Ya Mustafa
Khalk ke Sardaar aaye Marhaba Ya Mustafa
Ahmade Mukhtaar aaye Marahaba Ya Mustafa
Dilbaro Dildaar aaye Marahab Ya Mustafa

Assalam Aye Jaane Aalam, Assalam Imaane Aalam
Shaahe Deen Sultaane Aalam, Marhaba Ya Mustafa

Ye Jashn koi aaj ki Ijaad to nahin, 
Sadiyon se ho raha hai nayi baat to nahin
Aamad ki Apni Yaad Nabi ne manaaee hai
Khud Rabbe Kaaynaat ne Mehfil sajaaee hai

Saj gayi hai Ye Zameen, Saj gaya hai Aasmaan
Mustafa ke Noor se Saj gaya hai Kul Jahaan

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa Salle Ala

Duniya ka Sabse bada Sabse bada Jashn hai
Mere Sarkaar ke Milaad ka Ye Jashn hai

Rabb ne Rasoole Paak ko bakhsha hai Wo Makaam
Insaan kya Charind bhi karte hein Ahetiraam
Suraj fire to Chaand Ishaare se Chaak ho
Baadal kare hai Saaya Shajar bhi kare Salaam

Saj gayi hai Ye Zameen, Saj gaya hai Aasmaan
Mustafa ke Noor se Saj gaya hai Kul Jahaan

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa Salle Ala

Duniya ka Sabse bada Sabse bada Jashn hai
Mere Sarkaar ke Milaad ka Ye Jashn hai

Naamuse Mustafa ke Muhaafiz pe ho Salaam
Ahmed Raza pe Khaadime Razwi pe ho Salaam
Naamus par ho Pehraa , hai Aasim Mission yahi
Hai Jaan bhi Hamaari Rasoole Khuda ke Naam

Labbayk Labbayk Labbayk Ya Rasulallah
Labbayk Labbayk Labbayk Ya Rasulallah

Ye Dil bhi Tumhara hai Labbayk Labbayk Labbayk Ya Rasulallah
Ye Jaan bhi Tumhari hai Labbayk Labbayk Labbayk Ya Rasulallah
Ham Ishq ke Gaazi hein Labbayk Labbayk Labbayk Ya Rasulallah
Ham Tere Sipaahi hein Labbayk Labbayk Labbayk Ya Rasulallah
Sauda nahin kareinge Labbayk Labbayk Labbayk Ya Rasulallah
Imaan na becheinge Labbayk Labbayk Labbayk Ya Rasulallah
Sab kuchh hi Tumhara hai Labbayk Labbayk Labbayk Ya Rasulallah
Sab kuchh hi lutaaeinge Labbayk Labbayk Labbayk Ya Rasulallah








हिंदी (HINDI):



अस्सलामु अलैक या या रसूलल्लाह
अस्सलामु अलैक या हबीबी या नबीयल्लाह


सज गयी है ये ज़मीं , सज गया है आसमान
मुस्तफा के नूर से सज गया है कुल जहां

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

दुनिया का सबसे बड़ा सबसे बड़ा जश्न है
मेरे सरकार के मिलाद का ये जश्न है


आक़ा का जश्न है , मौला का जश्न है
प्यारे का जश्न है जश्न है


जब बारवी का चाँद ज़माने पे छा गया
बट गिर गए ज़मीं पे शैतान रो पड़ा
तारे भी ज़ूम ज़ूम के क़दमों में गिर गए
काबा भी मुस्तफा की सलामी को जुक गया

सज गयी है ये ज़मीं , सज गया है आसमान
मुस्तफा के नूर से सज गया है कुल जहां

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

दुनिया का सबसे बड़ा सबसे बड़ा जश्न है
मेरे सरकार के मिलाद का ये जश्न है


सबसे बड़ा है जश्न खुदा के हबीब का
जिनके तुफैल बनाये हैं दो जहां
होते न मुस्तफा तो होती न कायनात
ज़िंदा हैं हम जो आज है सदक़ा रसूल का

सज गयी है ये ज़मीं , सज गया है आसमान
मुस्तफा के नूर से सज गया है कुल जहां

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

दुनिया का सबसे बड़ा सबसे बड़ा जश्न है
मेरे सरकार के मिलाद का ये जश्न है


शाने नबी का बयान मकसदे मिलाद है
आले नबी से वफ़ा मकसदे मिलाद है
ज़िक्र हो असहाब का मकसदे मिलाद है

ज़िन्दगी में रौशनी बरकते मिलाद है
इल्म से ये दोस्ती बरकते मिलाद है
ईमान में ताजगी बरकते मिलाद है

मुस्तफा की गुफ्तगू अज़मते मिलाद है
हो रही है चारसू अज़मते मिलाद है
आशिकों के रूबरू अज़मते मिलाद है

आया है आज वो जिसे आदम करे सलाम
हर एक नबी का रब्ब ने बनाया जिसे इमाम
इसा को भी है उम्मती होने की आरज़ू
युसूफ भी जिनपे क़ुर्बान है जिब्रील हैं गुलाम

सज गयी है ये ज़मीं , सज गया है आसमान
मुस्तफा के नूर से सज गया है कुल जहां

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

दुनिया का सबसे बड़ा सबसे बड़ा जश्न है
मेरे सरकार के मिलाद का ये जश्न है


तला-अल-बदरू अलैना, मीन सनी यातील वदाई
वाजबश-शुक्रू अलेना , मदा-आ लिल्लाहि दाई


आये नबी तो बेटियां दबने से बच गयीं
बेवाओं की भी डोलियां हैं फिर से सज गयीं
माओं को खुल्द , बेटी को रेहमत बना दिया
दीवारें नफरतों की ज़मीं में हैं धंस गयीं

सज गयी है ये ज़मीं , सज गया है आसमान
मुस्तफा के नूर से सज गया है कुल जहां

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

दुनिया का सबसे बड़ा सबसे बड़ा जश्न है
मेरे सरकार के मिलाद का ये जश्न है


करके चरागाँ सारा जहां जगमगा दिया
हर घर पे आशिकों ने है झंडा लगा दिया
लंगर कहीं हैं और कहीं शरबतो सबील
उश्शाक़े मुस्तफा कभी होते नहीं बख़ील

सज गयी है ये ज़मीं , सज गया है आसमान
मुस्तफा के नूर से सज गया है कुल जहां

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

दुनिया का सबसे बड़ा सबसे बड़ा जश्न है
मेरे सरकार के मिलाद का ये जश्न है


नबियों के सुल्तान आये मरहबा या मुस्तफा
दो जहां की शान आये मरहबा या मुस्तफा
साहिबे क़ुरआन आये मरहबा या मुस्तफा
आशिकों की जान आये मरहबा या मुस्तफा
सैय्यिदो सरदार आये मरहबा या मुस्तफा
ख़ल्क़ के सरदार आये मरहबा या मुस्तफा
अहमदे मुख्तार आये मरहबा या मुस्तफा
दिलबरों दिलदार आये मरहबा या मुस्तफा


अस्सलाम अये जाने आलम, अस्सलाम इमाने आलम
शाहे दीं सुल्ताने आलम, मरहबा या मुस्तफा


ये जश्न कोई आज की ईजाद तो नहीं
सदियों से हो रहा है नयी बात तो नहीं
आमद की अपनी याद नबी ने मनाई है
खुद रब्बे कायनात ने महफ़िल सजाई है

सज गयी है ये ज़मीं , सज गया है आसमान
मुस्तफा के नूर से सज गया है कुल जहां

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

दुनिया का सबसे बड़ा सबसे बड़ा जश्न है
मेरे सरकार के मिलाद का ये जश्न है


रब्ब ने रसूले पाक को बख्शा है वो मकाम
इंसान क्या चरिन्द भी करते हैं एहतिराम
सूरज फिरे तो चाँद इशारे से चाक हो
बादल करे है साया , शजर भी करे सलाम

सज गयी है ये ज़मीं , सज गया है आसमान
मुस्तफा के नूर से सज गया है कुल जहां

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

दुनिया का सबसे बड़ा सबसे बड़ा जश्न है
मेरे सरकार के मिलाद का ये जश्न है


नामूसे मुस्तफा के मुहाफ़िज़ पे हो सलाम
अहमद रज़ा पे ख़ादिमें रज़वी पे हो सलाम
नामूस पर हो पहरा , है आसिम मिशन यही
है जान भी हमारी रसूले खुदा के नाम

लब्बैक लब्बैक लब्बैक या रसूलल्लाह
लब्बैक लब्बैक लब्बैक या रसूलल्लाह

ये दिल भी तुम्हारा है लब्बैक लब्बैक लब्बैक या रसूलल्लाह
ये जां भी तुम्हारी है लब्बैक लब्बैक लब्बैक या रसूलल्लाह
हम इश्क़ के गाज़ी हैं लब्बैक लब्बैक लब्बैक या रसूलल्लाह
हम तेरे सिपाई हैं लब्बैक लब्बैक लब्बैक या रसूलल्लाह
सौदा नहीं करेंगे लब्बैक लब्बैक लब्बैक या रसूलल्लाह
ईमान न बेचेंगे लब्बैक लब्बैक लब्बैक या रसूलल्लाह
सब कुछ ही तुम्हारा है लब्बैक लब्बैक लब्बैक या रसूलल्लाह
सं कुछ ही लुटाएंगे लब्बैक लब्बैक लब्बैक या रसूलल्लाह


Naat Khwan : 

Hafiz Tahir Qadri

More Miladunnabi Naat Lyrics:

Click For More Miladunnbi Naats

Comments

Popular Naat Lyrics

Humne Aankhon se dekha nahi hai Magar || Lyrics || Wo Muhammad Madine mein Maujud hai || हमने आँखों से देखा नहीं है मगर || ENG HINDI URDU

Allah humma Sallay Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || अल्लाहुम्म सल्ली अला सैय्यिदिना व मौलाना मुहम्मदिन || ENG HINDI URDU

Wo Jiske liye Mehfile Konain saji hai || Wo Mera Nabi hai Lyrics || वो जिसके लिए महफिले कोनैन सजी है || वो मेरा नबी है || وو جسکے لئے محفل کَونَیْن سجی ہے || Lyrics

Fazle Rabbe paak se beta mera dulha bana || Madani Sehra || Lyrics || फ़ज़्ले रब्बे पाक से बेटा मेरा दूल्हा बना || मदनी सेहरा || Haifz Tahir Qadri

Shahe Do Alam Salam Assalam || शाहे दो आलम सलाम अस्सलाम || Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Tumne Shahe Jeelaan Muje Bagdaad bulaya Lyrics || तुमने शाहे जिलान मुझे बग़दाद बुलाया || Owais Raza Qadri

Bulalo Sarkar Tum Apne Dar Par || Salam Lyrics || बुलालो सरकार तुम अपने दर पर

Aye Khatme Rasool Makki Madani || अये खत्मे रसूल मक्की मदनी || Lyrics || Hafiz Uzair Akhtari

Madine ke Aaqa Salamun Alaik Lyrics || मदीने के आक़ा , सलामुन अलैक

Peerane peer mere shahe jilani Lyrics || पीराने पीर मेरे शाहे जिलानी

Facebook Page