Inshaa-Allah saare Roze rakkhunga Ramzaan mein Lyrics || Hafiz Tahir Qadri || Roman(Eng) & हिंदी


Roman (Eng):


Inshaa-Allah saare Roze rakkhunga Ramzaan mein
Namaaz pad ke Rabb ko Raazi kar lung Ramzaan mein

Ramzaan Ramzaan Ramzaan Ramzaan 
Ramzaan Ramzaan Ramzaan Ramzaan 

Allah ka Ahesaan hai , Ataa kiya Ramzaan hai
Shukre Maulaa karte rehnaa , Momeen ki pahechaan hai

Inshaa-Allah saare Roze rakkhunga Ramzaan mein
Namaaz pad ke Rabb ko Raazi kar lung Ramzaan mein

Jannat ke Darwaaze khulte hein Maahe Ramzaan mein
Bakhshish ke Parwaane bant'te hein Maahe Ramzaan mein
Mein bhi bakhshish ka Parwaana Paaungaa Ramzaan mein

Inshaa-Allah saare Roze rakkhunga Ramzaan mein
Namaaz pad ke Rabb ko Raazi kar lung Ramzaan mein

Har bacche ki khwaahish hoti hai Rozaa Kushaaee ki
Kehta hai Ye Har bacchaa kab Meri baari aayegi
Mein bhi Roze ki Lazzat ko paaungaa Ramzaan mein

Inshaa-Allah saare Roze rakkhunga Ramzaan mein
Namaaz pad ke Rabb ko Raazi kar lung Ramzaan mein

Din mein Roze rakh kar Jo Raaton ko Taraaweeh padtaa hai
Maula Uske pichhle sab jurmon ki bakhshish kartaa hai
Apne Gunaahon ki Maafi karwaungaa Ramzaan mein

Inshaa-Allah saare Roze rakkhunga Ramzaan mein
Namaaz pad ke Rabb ko Raazi kar lung Ramzaan mein

Jaane ya Anjaane mein Dil Jiska Meine todaa hai
Rooth ke Mujse Jis bhaai ne Apne Rukh ko modaa hai
Maafi maangke Un Sab ko manaaungaa Ramzaan mein

Inshaa-Allah saare Roze rakkhunga Ramzaan mein
Namaaz pad ke Rabb ko Raazi kar lung Ramzaan mein

Ramzaan Ramzaan Ramzaan Ramzaan 
Ramzaan Ramzaan Ramzaan Ramzaan 

Maahe Ramzaan mein Aaqa bharpoor Sakhaa farmaate the
Har Saaeel ko bhar bhar ke , Sarkaar ataa farmaate the
Azam kiya hai , Ye Sunnat apnaaunga Ramzaan mein

Inshaa-Allah saare Roze rakkhunga Ramzaan mein
Namaaz pad ke Rabb ko Raazi kar lung Ramzaan mein

Jo Gurbat mein fate puraane kapde pahene rehte hein
Dekh ke huliyaa Jinko Sab Deewaana kehte rehte hein
Un Naadaron ko Kapdaa pehnaaunga Ramzaan mein

Allah ka Ahesaan hai , Ataa kiya Ramzaan hai
Shukre Maulaa karte rehnaa , Momeen ki pahechaan hai

Inshaa-Allah saare Roze rakkhunga Ramzaan mein
Namaaz pad ke Rabb ko Raazi kar lung Ramzaan mein

Aakhri Ashre mein Jo bhi kar leta hai Aetikaaf
Do Hajj , Do Umre ka milta hai Usko Ajro Sawaab
Saari Duniyaa-waalon ko batlaaunga Ramzaan mein

Inshaa-Allah saare Roze rakkhunga Ramzaan mein
Namaaz pad ke Rabb ko Raazi kar lung Ramzaan mein

Ramzaan Ramzaan Ramzaan Ramzaan 
Ramzaan Ramzaan Ramzaan Ramzaan 

Allah ka Ahesaan hai , Ataa kiya Ramzaan hai
Shukre Maulaa karte rehnaa , Momeen ki pahechaan hai

Inshaa-Allah saare Roze rakkhunga Ramzaan mein
Namaaz pad ke Rabb ko Raazi kar lung Ramzaan mein



हिंदी:

इंशाअल्लाह सारे रोज़े रक्खूँगा रमज़ान में
नमाज़ पड़ के रब्ब का राज़ी कर लूंगा रमज़ान में

रमज़ान रमज़ान रमज़ान रमज़ान
रमज़ान रमज़ान रमज़ान रमज़ान

अल्लाह का अहसान है , अता किया रमज़ान है
शुक्रे मौला करते रहना, मोमीन की पहचान है

इंशाअल्लाह सारे रोज़े रक्खूँगा रमज़ान में
नमाज़ पड़ के रब्ब का राज़ी कर लूंगा रमज़ान में

जन्नत के दरवाज़े खुलते हैं माहे रमज़ान में
बख्शीश के परवाने बंटते हैं माहे रमज़ान में
में भी बख्शीश का परवाना पाऊंगा रमज़ान में

इंशाअल्लाह सारे रोज़े रक्खूँगा रमज़ान में
नमाज़ पड़ के रब्ब का राज़ी कर लूंगा रमज़ान में

हर बच्चे की ख्वाहिश होती है रोज़ा कुशाई की
कहता है ये हर बच्चा कब मेरी बारी आएगी
में भी रोज़े की लज़्ज़त का पाउँगा रमज़ान में

इंशाअल्लाह सारे रोज़े रक्खूँगा रमज़ान में
नमाज़ पड़ के रब्ब का राज़ी कर लूंगा रमज़ान में

दिन में रोज़े रख कर रातों में तरावीह पड़ता है
मौला उसके पिछले सब जुर्मों की बख्शीश करता है
अपने गुनाहों की माफ़ी करवाऊंगा रमज़ान में

इंशाअल्लाह सारे रोज़े रक्खूँगा रमज़ान में
नमाज़ पड़ के रब्ब का राज़ी कर लूंगा रमज़ान में

जाने या अनजाने में दिल जिसका मैंने तोडा है
रूठ के मुझसे जिस भाई ने अपने रुख का मोड़ा है
माफ़ी मांगके उन सबको मनाऊंगा रमज़ान में

इंशाअल्लाह सारे रोज़े रक्खूँगा रमज़ान में
नमाज़ पड़ के रब्ब का राज़ी कर लूंगा रमज़ान में

रमज़ान रमज़ान रमज़ान रमज़ान
रमज़ान रमज़ान रमज़ान रमज़ान

माहे रमज़ां में आक़ा भरपूर सखा फरमाते थे
हर साईल का भर भर के सरकार अता फरमाते थे
अज़म किया है ये सुन्नत अपनाउंगा रमज़ां में

इंशाअल्लाह सारे रोज़े रक्खूँगा रमज़ान में
नमाज़ पड़ के रब्ब का राज़ी कर लूंगा रमज़ान में

जो ग़ुरबत में फाटे पुराने कपडे पहने रहते हैं
देख के हुलिया जिनको सब दीवाना कहते रहते हैं
उन नादरों को कपड़ा पहनाउंगा रमजान में

अल्लाह का अहसान है , अता किया रमज़ान है
शुक्रे मौला करते रहना, मोमीन की पहचान है

इंशाअल्लाह सारे रोज़े रक्खूँगा रमज़ान में
नमाज़ पड़ के रब्ब का राज़ी कर लूंगा रमज़ान में

आखरी रोज़े में जो भी कर लेता है एतिकाफ
दो हज, दो उमरे का मिलता है उसको अजरो सवाब
सारी दुनिया वालों को बतलाऊंगा रमजान में

इंशाअल्लाह सारे रोज़े रक्खूँगा रमज़ान में
नमाज़ पड़ के रब्ब का राज़ी कर लूंगा रमज़ान में

रमज़ान रमज़ान रमज़ान रमज़ान
रमज़ान रमज़ान रमज़ान रमज़ान

अल्लाह का अहसान है , अता किया रमज़ान है
शुक्रे मौला करते रहना, मोमीन की पहचान है

इंशाअल्लाह सारे रोज़े रक्खूँगा रमज़ान में
नमाज़ पड़ के रब्ब का राज़ी कर लूंगा रमज़ान में

Comments

Facebook Page

Followers

Popular Naat Lyrics

Wo jiske liye Mehfile Konain saji hai Lyrics || Roman(Eng) and Hindi(हिंदी)

Shahe Do Aalam Salaam Assalaam Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Allahumma Salle Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || Roman (Eng) & हिंदी (Hindi)