Siddiq Maula Mere Maqabat Lyrics || सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला || Hafiz Tahir Qadri


Roman(ENG):


Siddiq-e-Akbar , Siddiq-e-Akbar
Siddiq-e-Akbar , Siddiq-e-Akbar

Ya Ameerul Momineen , Ya Ameerul Mo'mineen

Pehle Sahabi , Mere Siddiq hein
Pehle Khallifa , Mere Siddiq hein

Bilal ko Ghulami se Aazad karaye
Imamate Ali, Umar, Usman karaye


Siddiq Maula Mere Siddiq Maula
Siddiq Maula Mere Siddiq Maula


Rasoole Paak ki Chahat Abubakar Siddiq
Hein Aap Fakhre Khilafat Abubakar Siddiq

Siddiq Maula Mere Siddiq Maula
Siddiq Maula Mere Siddiq Maula

Nabi ke baad jo Afzal hein Sare Aalam mein
Wahi hai Shane Sadaqat Abubakar Siddiq

Pehla Madadgar , Pehala Sahabi
Nabi ne Jise Har qadam pe Dua di

Wo Afzal Bashar Ba'd az-Ambiya hai
Wo Jaane Sadaqat Wo Jaane Wafa hai

Firishte Usi ki Adaon pe Aashiq
Usi ki Namazein Duaon pe Aashiq

Sahabi ho Aisa Imamon se Aala
Muhammad se Har dam Wafa karne wala

Wo Siddiqe Akbar ke Jiska Laqab hai
Wo Pehla Khalifa Wo Pehal Arab hai

Bashar ki Sadaqat ka Mein yaar thehra
Sadaqat ka uncha Wo Minaar thehra

Chatanon se Mazboot Uska qadam tha
Wo Chalta hua Ek Baabe Haram tha

Wo Saara tha Taalime Quraan Jaisa
Khuda ka ka Ek Ek Wo Farman Jaisa

Khuda Unse Raazi hua Wo Khuda se
Kaha khudse Aameen Uski Dua pe

Zameen pe Wo Arshe Bari dekhta hai
Wo Sabse nirala Wo sabse juda hai

Dua ke liye Wo agar lab hila de
Khuda Uspe Apne Khazane luta de

Wohi Sani Hasnain ka hai Mukhatab
Usi ke liye hai bade sab Maratib

Wo Siddiqe Akbar ke Jiska Lakab hai
Wo Pehla Khalifa Wo Pehal Arab hai

Jab bhi Khuda se Dua mangta hai
Wo Apne liye Mustafa Mangta hai

Meri Jaan Qurbaan Jaane Wafa pe
Mein Raazi Wo Raazi ho Uski Riza pe

Meri Jaan Jaane Wafa ke liye hai
Mera Har Lafaz Mustafa ke liye hai

Mein So baar lotun Mein So baar aaun
Mein Qurban jaun Mein Qurban jaun Mein Qurban jaun

Kya khub Pyari he. Uski Duaein
Gunahon se Mahfooz Uski Adaein

Wo Pehla Mujahid Wo Pehla hai Ghazi
Wo Pehla Khalifa Wo Pehla Namazi

Zameen pe Charage Wafa banke aaya
Habeebe Habeebe Khuda banke aaya

Tera Saani Paida hua hai na hoga
Koi mard aisa hua hai na hoga

Wo Siddiqe Akbar ke Jiska Laqab hai
Wo Pehla Khalifa Wo Pehal Arab hai

Sadaqat ka paikar Samandar Wafa ka
Wo Ghamkhwar Pehla Rasoole Khuda ka

Nabi se Wo Nazrein hatata nahi hai
Jahan par Nabi hein Wo ab bhi Wahi hai

Wo Imaan lane Bachane mein Pehla
Wo Baare Khilafat uthane mein Pehla

Sadaqat Shuja'at mein Wo sabse aage
Nabi ki Itaa'at mein Wo sabse aage

Rasoole Khuda pe fida hone wala
Wo Jaane Wafa par fida hone wala

Wo Saare ka Saara Khuda ke liye tha
Wo zinda fakat Mustafa ke liye tha

Wo Siddiqe Akbar ke Jiska Lakab hai
Wo Pehla Khalifa Wo Pehal Arab hai


Siddiq Maula Mere Siddiq Maula
Siddiq Maula Mere Siddiq Maula


Fakat Bashar hi nahin Arsh par Firishte bhi
Hein karte Aapki Izzat Abubakar Siddiq

Rasoole Paak ki Chahat Abubakar Siddiq
Hein Aap Fakhre Khilafat Abubakar Siddiq


Siddiq Maula Mere Siddiq Maula
Siddiq Maula Mere Siddiq Maula


Ali ka ho nahin sakta Wo Roze Mahshar tak
Jo rakkhe Tujse Adawat Abubakar Siddiq

Mustafa ke Dilbaro Dildaar bhi Siddiq hein
Jaan-Nisar Aise ke Yaare Ghar bhi Siddiq hein

Dushmane Dee.n ke liye Talwar bhi Siddiq hein
Hifze Dee.n ki Aahni Deewar bhi Siddiq hein


Siddiq Maula Mere Siddiq Maula

Awwal bhi Tu hai Maula, Afzal bhi Tu hai Maula

Umar ne keh diya Abubakar Abubakar
Usman ki Sada Abubakar Abubakar
Haidar ne naara lagaya Abubakar Abubakar


Nabi ke Paas Jo soye hue hein rahat se
Wohi hein Sahibe Izzat Abubakar Siddiq

Rasoole Paak ki Chahat Abubakar Siddiq
Hein Aap Fakhre Khilafat Abubakar Siddiq

Siddiq Maula Mere Siddiq Maula
Siddiq Maula Mere Siddiq Maula


Mukhalifin tadapte rahenge yunhi Tere
Na hogi kam Teri Shohrat Abubakar Siddiq

Mustafa ke Dilbaro Dildaar bhi Siddiq hein
Jaan-Nisar Aise ke Yaare Ghar bhi Siddiq hein

Dushmane Deen ke liye Talwar bhi Siddiq hein
Hifze Deen ki Aahni Deewar bhi Siddiq hein


Siddiq Maula Mere Siddiq Maula

Sahabiyon ki Jama'at ke Peshwa hein Aap
Sabhi ko Tujse hai Ulfat Abubakar Siddiq

Rasoole Paak ki Chahat Abubakar Siddiq
Hein Aap Fakhre Khilafat Abubakar Siddiq

Siddiq Maula Mere Siddiq Maula
Siddiq Maula Mere Siddiq Maula


Qayam Roze Jaza Ham ko bakhshwa lenge
Rafike Malike Jannat Abubakar Siddiq

Rasoole Paak ki Chahat Abubakar Siddiq
Hein Aap Fakhre Khilafat Abubakar Siddiq

Siddiq Maula Mere Siddiq Maula
Siddiq Maula Mere Siddiq Maula



हिंदी(HINDI):


सिद्दीक़-ए-अकबर , सिद्दीक़-ए-अकबर
सिद्दीक़-ए-अकबर , सिद्दीक़-ए-अकबर

या अमीरुल मोमिनीन , या अमीरुल मोमिनीन

पहले सहाबी मेरे सिद्दीक़ हैं
पहले खलीफा मेरे सिद्दीक़ हैं

बिलाल को ग़ुलामी से आज़ाद कराए
इमामते अली, उमर, उस्मान कराए

रसूले पाक की चाहत, अबूबकर सिद्दीक़
हैं आप फखरे खिलाफत, अबूबकर सिद्दीक़

नबी के बाद जो अफ़ज़ल हैं सारे आलम में
वही है शाने सदाक़त , अबूबकर सिद्दीक़

पहला मददगार , पहला सहाबी
नबी ने जिसे हर क़दम पे दुआ दी

वो अफ़ज़ल बशर , बा'द अज़-अम्बिया
वो जाने सदाक़त, जाने वफ़ा है 

फरिश्ते उसी की अदाओं पे आशिक़
उसी की नमाज़ें दुआओं पे आशिक़

सहाबी हो ऐसा इमामों से आला
मुहम्मद से हर दम वफ़ा करने वाला

वो सिद्दीक़े अकबर के जिसका लक़ब है
वो पहला खलीफा , वो पहला अरब है

बशर की सदाक़त का में यार ठहरा
सदाक़त का ऊँचा वो मीनार ठहरा

चटानों से मज़बूत उसका क़दम था
वो चलता हुआ एक बाबे हरम था

वो सारा था तालीमे क़ुरआन जैसा
खुदा का एक एक वो फरमान जैसा

खुदा उनसे राज़ी हुआ वो खुदा से
कहा खुदसे आमीन उसकी दुआ से

ज़मीं पे वो अर्शे बरी देखता है
वो सबसे निराला वो सबसे जुदा है 

दुआ के लिए वो अगर लब हिला दे
खुदा उसपे अपने ख़ज़ाने लुटा दे

वही शानी हसनैन का है मुख़ातब
उसी के लिए है बड़े सब मरातिब

वो सिद्दीक़े अकबर के जिसका लक़ब है
वो पहला खलीफा वो पहला अरब है

जब भी खुदा से दुआ मांगता है
वो अपने लिए मुस्तफा मांगता है

मेरी जान क़ुर्बान जाने वफ़ा पे
में राज़ी वो राज़ी हो उसकी रज़ा पे

मेरी जान जाने वफ़ा के लिए है
मेरा हर लफ़ज़ मुस्तफा के लिए है 

में सो बार लौटूं में सो बार आऊं
में क़ुर्बान जाऊं, में क़ुर्बान जाऊं, में क़ुर्बान जाऊं

क्या खूब प्यारी हैं उसकी दुआएं
गुनाहों से महफूज़ उसकी अदाएं

वो पहला मुजाहिद , वो पहला है गाज़ी
वो पहला खलीफा वो पहला नमाज़ी

ज़मीं पे चरागे वफ़ा बनके आया
हबीबे हबीबे खुदा बन के आया

तेरा सानी पैदा हुआ है न होगा
कोई मर्द ऐसा हुआ है न होगा

वो सिद्दीक़े अकबर के जिसका लक़ब है
वो पहला खलीफा वो पहला अरब है

सदाक़त का पैकर, समंदर वफ़ा का 
वो ग़मख्वार पहला रसूले खुदा का

नबी से वो नज़रें हटाता नहीं है
जहां पर नबी हैं वो अब भी वही है

वो ईमान लाने बचने में पहला
वो बारे खिलाफत उठाने में पहला

सदाक़त शुजाअत में वो सबसे आगे
नबी की इताअत में वो सबसे आगे

रसूले खुदा पे फ़िदा होने वाला
वो जाने वफ़ा पर फ़िदा होने वाला

वो सारे का सारा खुदा के लिए था
वो ज़िंदा फकत मुस्तफा के लिए था

वो सिद्दीक़े अकबर के जिसका लक़ब है
वो पहला खलीफा वो पहला अरब है

सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला
सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला

फकत बशर ही नहीं अर्श पर फिरिशते भी
हैं करते आपकी इज़्ज़त अबूबकर सिद्दीक़

रसूले पाक की चाहत अबूबकर सिद्दीक़
हैं आप फखरे खिलाफत अबूबकर सिद्दीक़

सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला
सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला

अली का हो नहीं सकता वो रोज़े महशर तक
जो रक्खे तुजसे अदावत अबूबकर सिद्दीक़

मुस्तफा के दिलबरों दिलदार भी सिद्दीक़ हैं
जां-निसार ऐसे के यारे ग़ार भी सिद्दीक़ हैं

दुश्मन दीं के लिए तलवार भी सिद्दीक़ हैं
हिफ्ज़े दीं की आहनी दीवार भी सिद्दीक़ हैं

सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला

अव्वल भी तू है मौला, अफ़ज़ल भी तू है मौला

उमर ने कह दिया अबूबकर अबूबकर
उस्मान की सदा अबूबकर अबूबकर
हैदर ने नारा लगाया अबूबकर अबूबकर

नबी के पास जो सोये हुए हैं राहत से
वही हैं साहिबे इज़्ज़त अबूबकर सिद्दीक़

सूले पाक की चाहत, अबूबकर सिद्दीक़
हैं आप फखरे खिलाफत, अबूबकर सिद्दीक़

सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला
सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला

मुख़ालिफ़ीन तड़पते ही रहेंगे यूँहीं तेरे
न होगी कम तेरी शोहरत अबूबकर सिद्दीक़

मुस्तफा के दिलबरों दिलदार भी सिद्दीक़ हैं
जां-निसार ऐसे के यारे ग़ार भी सिद्दीक़ हैं

दुश्मन दीं के लिए तलवार भी सिद्दीक़ हैं
हिफ्ज़े दीं की आहनी दीवार भी सिद्दीक़ हैं

सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला

सहबियों की जमाअत के पेशवा हैं आप
सभी को तुजसे है उल्फत अबूबकर सिद्दीक़

रसूले पाक की चाहत, अबूबकर सिद्दीक़
हैं आप फखरे खिलाफत, अबूबकर सिद्दीक़

सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला
सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला

क़याम रोज़े जज़ा हम को बख्शवा लेंगे
रफ़ीके मालिके जन्नत अबूबकर सिद्दीक़

रसूले पाक की चाहत, अबूबकर सिद्दीक़
हैं आप फखरे खिलाफत, अबूबकर सिद्दीक़

सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला
सिद्दीक़ मौला मेरे सिद्दीक़ मौला





صديق أكبر صديق أكبر
صديق أكبر صديق أكبر

يا أمير المؤمنين يا أمير المؤمنين

پہلے صحابی میرے صديق ہیں
پہلے خللیفہ میرے صديق ہیں

بلال کو غلامی سے آزاد کرایہ 
امماتے علی عمر عثمان کرائے

صدیق مولا میرے صدیق مولا 
صدیق مولا میرے صدیق مولا 

رسولے پاک کی چاہت ابو بکر صدیق 
ہیں آپ فخرے خلافت  ابو بکر صدیق 

نبیوں کے بعد جو افضل ہے سارے عالم میں
وہی ہے شانے صداقت  ابو بکر صدیق 

پہلا مددگار پہلا صحابی
نبی نے جسے ہر قدم پر دعا دی 

وہ افضل بشر بعد از انبیاء ہے
وہ جانے صداقت جانے وفا ہے

فرشتے اسی کی اداؤں کے عاشق
اسی کی نمازیں دعاؤں پہ عاشق

صحابی ہو ایسا اماموں سے اعلیٰ
محمّد سے ہر دم وفا کرنے والا 

وہ صديق أكبر کے جسکا لقب ہے
وہ پہلا خلیفہ وہ پہلا عرب ہے 

بشر کی صداقت میں یار ٹھہرا 
صداقت کا اونچا وہ مینار ٹھہرا

چٹانوں سے مضبوط اسکا قدم تھا 
وہ چلتا ہوا ایک بابے حرم تھا

وہ سارا تھا تعلیمے قران جیسا
خدا کا کا ایک ایک وہ فرمان جیسا 

خدا ان سے راضی ہوا وہ خدا سے 
کہا خود سے آمین اس کی دعا پے 

زمیں پے وہ عرشے بری دیکھتا ہے 
وہ سب سے نرالا وہ سب سے جھدہ ہے 

دعا کے لئے وہ اگر لب ہلا دے 
خدا اسپے اپنے خزانے لوٹا دے 

working...... 

Naat Khwan : 

Hafiz Tahir Qadri

Comments

Post a Comment

Popular Naat Lyrics

Humne Aankhon se dekha nahi hai Magar || Lyrics || Wo Muhammad Madine mein Maujud hai || हमने आँखों से देखा नहीं है मगर || ENG HINDI URDU

Allah humma Sallay Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || अल्लाहुम्म सल्ली अला सैय्यिदिना व मौलाना मुहम्मदिन

Wo Jiske liye Mehfile Konain saji hai || Wo Mera Nabi hai Lyrics || वो जिसके लिए महफिले कोनैन सजी है || वो मेरा नबी है || وو جسکے لئے محفل کَونَیْن سجی ہے || Lyrics

Fazle Rabbe paak se beta mera dulha bana || Madani Sehra || Lyrics || फ़ज़्ले रब्बे पाक से बेटा मेरा दूल्हा बना || मदनी सेहरा || Haifz Tahir Qadri

Shahe Do Alam Salam Assalam || शाहे दो आलम सलाम अस्सलाम || Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Tumne Shahe Jeelaan Muje Bagdaad bulaya Lyrics || तुमने शाहे जिलान मुझे बग़दाद बुलाया || Owais Raza Qadri

Bulalo Sarkar Tum Apne Dar Par || Salam Lyrics || बुलालो सरकार तुम अपने दर पर

Aye Khatme Rasool Makki Madani || अये खत्मे रसूल मक्की मदनी || Lyrics || Hafiz Uzair Akhtari

Madine ke Aaqa Salamun Alaik Lyrics || मदीने के आक़ा , सलामुन अलैक

Peerane peer mere shahe jilani Lyrics || पीराने पीर मेरे शाहे जिलानी

Facebook Page