Khuda ke Fazl se Ham par hai Saaya Gause Aazam ka || खुदा के फ़ज़ल से हम पर है साया गौसे आज़म का || Lyrics || Hafiz Tahir Qadri


Gaus Paak


Roman(ENG):


Khuda ke Fazl se Ham par hai Saaya Gause Aazam ka
Hamein Donon Jahaan mein hai Sahaara Gause Aazam ka

Hamaari laaj kiske Haath hai Bagdaad wale ke
Musibat taal dena kaam kiska Gause Aazam ka

Muhammad ka Rasoolon mein hai Jaise Martaba Aala
Hai Afzal Auliya mein yunhi rutba Gause Aazam ka

Janaabe Gaus Dulha aur Baraati Auliya honge
Maza dikhlaaega Mahshar mein Sehra Gause Aazam ka

Nida dega Munaadi Hashr mein yun Qadariyon ko
Kidhar hein Qadari kar lein Nazaara Gause Aazam ka

Mukhaalif kya kare Mera ke hai behad Karam Muj par
Khuda ka, Rahmatullil Aalameen ka, Gause Aazam ka

Bula kar kafiron ko dete hein Abdaal ka rutba
Hamesha josh par rehta hai Dariya Gause Aazam ka

Lohaab Apna chataaya Ahmade Mukhtar ne Unko
Fir kaise na hota bolbaala Gause Aazam ka

Padi Laa-haul aur Shaitaan ke dhoke ko kiya gaarat
Uloomo Fazl se wo Noor chamka Gause Aazam ka

Rahe Paaband Ahkam-e-Shariyat Ibtida se hi
Na chhuta Shirkhwaari mein bhi Roza Gause Aazam ka

Jameele Qadri So Jaan se ho qurban Murshid par
Banaaya Jisne Muj jaise ko banda Gause Aazam ka


Same Manqabat in different style


Mushkil pade to yaad karo Dastageer ko
Bagdaad wale Hazrate Peerane Peer ko

Ya Gaus Al-Madad Ya Gaus Al-Madad
Ya Jilaani Shayallillah Ya Jilaani Shayallillah 

Khuda ke Fazl se Ham par hai Saaya Gause Aazam ka
Hamein Donon Jahaan mein hai Sahaara Gause Aazam ka

Ya Shaahe Jeelan Karam hai Tera

Mere Gyaarvi waale Peer, Gause Aazam Dastagir
Tere Dar ka Mein Fakeer, Gause Aazam Dastagir

Tera Rutba Be-Nazeer, Gause Aazam Dastagir
Meri Chamka di Takdeer, Gause Aazam Dastagir

Hamaari laaj kiske Haath hai Bagdaad wale ke
Musibat taal dena kaam kiska Gause Aazam ka

Khuda ke Fazl se Ham par hai Saaya Gause Aazam ka
Hamein Donon Jahaan mein hai Sahaara Gause Aazam ka

Muhammad ka Rasoolon mein hai Jaise Martaba Aala
Hai Afzal Auliya mein yunhi rutba Gause Aazam ka

Khuda ke Fazl se Ham par hai Saaya Gause Aazam ka
Hamein Donon Jahaan mein hai Sahaara Gause Aazam ka

Janaabe Gaus Dulha aur Baraati Auliya honge
Maza dikhlaaega Mahshar mein Sehra Gause Aazam ka

Nida dega Munaadi Hashr mein yun Qadariyon ko
Kidhar hein Qadari kar lein Nazaara Gause Aazam ka

Mukhaalif kya kare Mera ke hai behad Karam Muj par
Khuda ka, Rahmatullil Aalameen ka, Gause Aazam ka

Mere Gyaarvi waale Peer, Gause Aazam Dastagir
Tere Dar ka Mein Fakeer, Gause Aazam Dastagir

Tera Rutba Be-Nazeer, Gause Aazam Dastagir
Meri Chamka di Takdeer, Gause Aazam Dastagir

Jameele Qadri So Jaan se ho qurban Murshid par
Banaaya Jisne Muj jaise ko banda Gause Aazam ka

Khuda ke Fazl se Ham par hai Saaya Gause Aazam ka
Hamein Donon Jahaan mein hai Sahaara Gause Aazam ka





हिंदी(HINDI):


खुदा के फ़ज़ल से हम पर है साया गौसे आज़म का
हमें दोनों जहां में है, सहारा गौसे आज़म का

हमारी लाज किसके हाथ है, बग़दाद वाले के
मुसीबत टाल देना काम किसका गौसे आज़म का

मुहम्मद का रसूलों में है जैसा मर्तबा आला
है अफ़ज़ल औलिया में यूँही रुतबा गौसे आज़म का

जनाबे गॉस दूल्हा और बाराती औलिया होंगे
मज़ा दिखलाएगा महशर में सेहरा गौसे आज़म का

निदा देगा मुनादी हश्र में यूँ क़ादरियों को
किधर हैं क़ादरी कर लें नज़ारा गौसे आज़म का

मुखालिफ क्या करे मेरा के है बे-हद करम मुज पर
खुदा का, रहमतुल्लिल आलमीं का, गौसे आज़म का

बुला कर काफिरों को देते हैं अब्दाल का रुतबा
हमेशा जोश पर रहता है दरिया गौसे आज़म का

लोहाब अपना चटाया अहमदे मुख़्तार ने उनको
फिर कैसे न होता बोल बाला गौसे आज़म का

पड़ी ला-हॉल और शैतान के धोके को किया गारत
उलूमो फ़ज़ल से वो नूर चमका गौसे आज़म का

रहे पाबंद अहकामे शरीयत इब्तिदा से ही
न छूटा शीरखारी में भी रोज़ा गौसे आज़म का

जमीले क़ादरी सो जान से क़ुर्बान मुर्शिद पर
बनाया जिसने मुज जैसे को बाँदा गौसे आज़म का


वही मन्क़बत अलग अंदाज़ में


मुश्किल पड़े तो याद करो दस्तगीर को
बग़दाद वाले हज़रते पीराने पीर को

या गॉस अल-मदद, या गॉस अल-मदद
या जिलाली शय-अल्लिल्लाह या जिलाली शय-अल्लिल्लाह

खुदा के फ़ज़ल से हम पर है साया गौसे आज़म का
हमें दोनों जहां में है, सहारा गौसे आज़म का

या शाहे जिलान करम है तेरा 

मेरे ग्यारवी वाले पीर, गौसे आज़म दस्तगीर
तेरे दर का में फ़कीर, गौसे आज़म दस्तगीर

तेरा रुतबा बे-नज़ीर, गौसे आज़म दस्तगीर
मेरी चमका दी तक़दीर, गौसे आज़म दस्तगीर

हमारी लाज किसके हाथ है, बग़दाद वाले के
मुसीबत टाल देना काम किसका गौसे आज़म का

खुदा के फ़ज़ल से हम पर है साया गौसे आज़म का
हमें दोनों जहां में है, सहारा गौसे आज़म का

मुहम्मद का रसूलों में है जैसा मर्तबा आला
है अफ़ज़ल औलिया में यूँही रुतबा गौसे आज़म का

खुदा के फ़ज़ल से हम पर है साया गौसे आज़म का
हमें दोनों जहां में है, सहारा गौसे आज़म का

जनाबे गॉस दूल्हा और बाराती औलिया होंगे
मज़ा दिखलाएगा महशर में सेहरा गौसे आज़म का

निदा देगा मुनादी हश्र में यूँ क़ादरियों को
किधर हैं क़ादरी कर लें नज़ारा गौसे आज़म का

मुखालिफ क्या करे मेरा के है बे-हद करम मुज पर
खुदा का, रहमतुल्लिल आलमीं का, गौसे आज़म का

मेरे ग्यारवी वाले पीर, गौसे आज़म दस्तगीर
तेरे दर का में फ़कीर, गौसे आज़म दस्तगीर

तेरा रुतबा बे-नज़ीर, गौसे आज़म दस्तगीर
मेरी चमका दी तक़दीर, गौसे आज़म दस्तगीर

जमीले क़ादरी सो जान से क़ुर्बान मुर्शिद पर
बनाया जिसने मुज जैसे को बाँदा गौसे आज़म का

खुदा के फ़ज़ल से हम पर है साया गौसे आज़म का
हमें दोनों जहां में है, सहारा गौसे आज़म का


Comments

Post a Comment

Popular Naat Lyrics

Humne Aankhon se dekha nahi hai Magar || Lyrics || Wo Muhammad Madine mein Maujud hai || हमने आँखों से देखा नहीं है मगर || ENG HINDI URDU

Allah humma Sallay Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || अल्लाहुम्म सल्ली अला सैय्यिदिना व मौलाना मुहम्मदिन || ENG HINDI URDU

Shahe Do Alam Salam Assalam || शाहे दो आलम सलाम अस्सलाम || شاہِ دو عالم سلام اَلسَّلام || Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Fazle Rabbe paak se beta mera dulha bana || Madani Sehra || Lyrics || फ़ज़्ले रब्बे पाक से बेटा मेरा दूल्हा बना || मदनी सेहरा || Haifz Tahir Qadri

Wo Jiske liye Mehfile Konain saji hai || Wo Mera Nabi hai Lyrics || वो जिसके लिए महफिले कोनैन सजी है || वो मेरा नबी है || وو جسکے لئے محفل کَونَیْن سجی ہے || Lyrics

Bulalo Sarkar Tum Apne Dar Par || Salam Lyrics || बुलालो सरकार तुम अपने दर पर

Tumne Shahe Jeelaan Muje Bagdaad bulaya Lyrics || तुमने शाहे जिलान मुझे बग़दाद बुलाया || Owais Raza Qadri

Aye Khatme Rasool Makki Madani || अये खत्मे रसूल मक्की मदनी || Lyrics || Hafiz Uzair Akhtari

Madine ke Aaqa Salamun Alaik Lyrics || मदीने के आक़ा , सलामुन अलैक

Apne Malik ka Main Naam lekar Lyrics || अपने मालिक का में नाम लेकर || Roman(Eng) & हिंदी(Hindi) & اردو(Urdu)

Facebook Page