Bhar do jholi Meri Ya Muhammad By Sabri Brothers Lyrics || भर दो जोली मेरी या मुहम्मद


Roman(ENG):


Shahe Madina ! Suno Iltija Khuda ke Liye
Karam ho Mujhpe Habeebe Khuda Khuda ke liye
Huzur Guncha-e-Ummid ab toh khil jaaye
Tumhare dar ka gada hun bhik mil jaaye


Bhar do jholi Meri Ya Muhammad !
Laut kar Mein na jaaunga khali

Tumhare Aastane se zamana kya nahin pata
Koi bhi dar se khali Mangne wala nahin jata

Bhar do jholi Meri Ya Muhammad
Laut kar Mein na jaaunga khali

Tum zamane ke Mukhtar ho Ya Nabi !
Be-kason ke madadgar ho Ya Nabi
Sab ki sunte ho apne hon ya gair hon
Tum garibon ke gamkhwar ho Ya Nabi !

Bhar do jholi Meri Ya Muhammad
Laut kar Mein na jaaunga khali

Ham hein ranjo musibat ke maare hue
Sakht mushkil mein hein gham se hare hue
Ya Nabi kuchh khudara hamein bhik do
Dar pe aaye hein jholi pasare hue

Bhar do jholi Meri Ya Muhammad !
Laut kar Mein na jaaunga khali

Hai mukhalif zamana kidhar jaayein Ham
Halate bekasi kis ko dikhlayein Ham
Ham Tumhare bhikari hein Ya Mustafa
Kis ke aage bhala Hath failayein Ham

Bhar do jholi Meri Ya Muhammad !
Laut kar Mein na jaaunga khali

Bhar do jholi Meri Ya Muhammad
Laut kar Mein na jaaunga khali
Kuchh nawason ka sadqa ata ho
Dar pe aaya hun ban kar sawali

Haq se paayi wo shane kareemi
Marhaba donon aalam ke wali
Uski qismat ka chamka sitara
Jispe nazre karam Tumne dali

Zindagi bakhsh di bandagi ko
Aabru Deen-e-Haq ki bacha li
Wo Muhammad ka pyara nawasa
Jisne Sajde mein gardan kata li

Jo Ible Murtaza ne kiya kaam khub hai
Qurbani-e-Husain ka anjam khub hai
Qurban hoke Fatima Zahra ke chain ne
Deen-e-Khuda ki shan badhai Husain ne
Bakhshi hai jisne maz'hab-e-Islam ko hayat
Kitni Azeem Hazrat-e-Shabbir ki hai zaat
Maidan-e-Karbala mein Shahe Khush Khisal ne
Sajde mein sar kata ke Muhammad ke laal ne

Zindagi bakhsh di bandagi ko
Aabru Deen-e-Haq ki bacha li

Wo Muhammad ka pyara nawasa
Jisne Sajde mein gardan kata li

Hashr mein Unko dekhenge jis dam
Ummati ye kaheinge khushi se
Aa rahe hein wo dekho Muhammad
Jinke kandhe pe kamli hai kaali

Mehshar ke roz peshe Khuda honge jis gadi
Hogi gunahgaron mein kis darja be-kali
Aate hue Nabi ko jo dekhenge ummati
Ek dusre se sab ye kahenge khushi khushi

Aa rahe hein wo dekho Muhammad

Sare Mehshar gunahgaron se pursish jis gadi hogi
Yaqinan har bashar ko apni bakhshish ki padi hogi
Sabhi ko aas us dam pyare Aaqa se lagi hogi
Ke aise mein Muhammad ki Sawari aa rahi hogi
Pukarega zamana us gadi dukh-dard ke maaron
Na Gabrao Gunah-garon Na Gabrao Gunah-garon

Aa rahe hein wo dekho Muhammad
Jinke kandhe pe kamli hai kaali

Aashiq-e-Mustafa ki azanein
Allah Allah kitna asar tha

Sacha ye wakeya hai Azan-e-Bilal ka
Ek din Rasool-e-Paak se logon ne yun kaha

Ya Mustafa ! Azan galat dete hein Bilal
Kahiye Huzur aapka isme hai kya khayal

Farmaya Mustafa ne ye sach hai to dekhiye
Waqt-e-Sahar ki aaj Azan aur koi de

Hazrat Bilal ne jo Azan-e-Sahar na di
Qudrat Khuda ki dekho na mutlak sahar hui

Aaye Nabi ke paas khud As-habe ba-safa
Ki arz Mustafa se ke Ya Shahe Ambiya !

Hai kya sabab saher na hui aaj Ya Mustafa !
Jibreel laaye aise mein Paigam-e-Kibriya

Pehle to Mustafa ko adab se kiya salam
Ba'd az Salam unko Khuda ka diya payam

Yun Jibraeel ne kaha khairul Anam se
Allah ko hai Pyar Tumhare Gulam se

Farma raha hai Aap se ye Rabb-e-Zuljalal
Hogi na sub-ha denge na jab tak Azan Bilal

Aashiq-e-Mustafa ki azanein
Allah Allah kitna asar tha

Arsh wale bhi sunte the jisko
Kya Azan thi Azan-e-Bilali

Kash purnam Dayar-e-Nabi mein
Jeete jee ho bulawa kisi din

Haale Gham Mustafa ko sunaun
Tham kar Unke Roze ki Jaali




हिंदी(HINDI):


शहे मदीना ! सुनो इल्तिजा खुदा के लिए
करम हो मुज पे हबीब-ए-खुदा खुदा के लिए
हुज़ूर गुंचा-ए-उम्मीद अब तो खिल जाए
तुम्हारे दर का भिकारी हूँ भिक मिल जाए

भर दो जोली मेरी या मुहम्मद ! 
लौट कर में न जाऊँगा खाली

तुम्हारे आस्ताने से ज़माना क्या नहीं पाता
कोई भी दर से खाली मांगने वाला नहीं जाता

भर दो जोली मेरी या मुहम्मद ! 
लौट कर में न जाऊँगा खाली

तुम ज़माने के मुख़्तार हो या नबी !
बेकसों के मददगार हो या नबी
सब की सुनते हो अपने हों या गैर हों
तुम गरीबों के ग़मख्वार हो या नबी !

भर दो जोली मेरी या मुहम्मद ! 
लौट कर में न जाऊँगा खाली

हम हैं रंजो मुसीबत के मारे हुए
सख़्त मुश्किल में हैं ग़म से हरे हुए
या नबी कुछ ख़ुदारा हमें भिक दो
दर पे आये हैं जोली पसारे हुए

भर दो जोली मेरी या मुहम्मद ! 
लौट कर में न जाऊँगा खाली

है मुखालिफ ज़माना किधर जाएं हम
हालत-ए-बेकसी किसको दिखलाएं हम
हम तुम्हारे भिकारी हैं या मुस्तफा
किसके आगे भला हाथ फैलाएं हम

भर दो जोली मेरी या मुहम्मद ! 
लौट कर में न जाऊँगा खाली

भर दो जोली मेरी या मुहम्मद ! 
लौट कर में न जाऊँगा खाली
कुछ नवासों का सदक़ा अता हो
दर पे आया हूँ बनके सवाली

हक़ से पायी वो शाने करीमी
मरहबा दोनों आलम के वाली
उसकी क़िस्मत का चमका सितारा
जिसपे नज़रे करम तुमने डाली

ज़िन्दगी बख्श दी बंदगी को
आबरू दीन-ए-हक़ की बचा ली 
वो मुहम्मद का प्यारा नवासा
जिसने सजदे में गर्दन कटा ली

जो इब्ने मुर्तज़ा ने किया काम ख़ुब है
क़ुरबानी-ए-हुसैन का अंजाम ख़ुब है

क़ुर्बान होक फ़ातेमा ज़हरा के चैन ने
दीन-ए-खुदा की शान बचाई हुसैन ने

बख्शी है जिसने मज़हबे इस्लाम को हयात
कितनी अज़ीम हज़रते शब्बीर की है ज़ात

मैदान-ए-कर्बला में शहे खुश-खिसाल ने
सजदे में सर कटा के मुहम्मद के लाल ने

ज़िन्दगी बख्श दी बंदगी को
आबरू दीन-ए-हक़ की बचा ली

वो मुहम्मद का प्यारा नवासा 
जिसने सजदे में गर्दन कटा ली

हश्र में उनको देखेंगे जिस दम
उम्मती ये कहेंगे ख़ुशी से
आ रहे हैं वो देखो मुहम्मद
जिनके कांधे पे कमली है काली

महशर के रोज़ पेशे खुदा होंगे जिस गड़ी
होगी गुनहगारों में किस दर्जा बेकली
आते हुए नबी को देखेंगे उम्मती
एक दूसरे से सब ये कहेंगे ख़ुशी ख़ुशी

आ रहे हैं वो देखो मुहम्मद

सरे महशर गुनहगारों की पुर्सिश जिस गड़ी होगी
यक़ीनन हर बशर को अपनी बख्शीश की पड़ी होगी

सभी को आस उस दम प्यारे आक़ा की लगी होगी
के ऐसे में मुहम्मद की सवारी आ रही होगी

पुकारेगा ज़माना उस गड़ी दुःख दर्द के मारों
न गबराओ गुनहगारों न गबराओ गुनहगारों

आ रहे हैं वो देखो मुहम्मद
जिनके कांधे पे कमली है काली

आशिक़-ए-मुस्तफा की अज़मतें
अल्लाह अल्लाह कितना असर था

सच्चा ये वाक़ेया है अज़ान-ए-बिलाल का
एक दिन रसूल-ए-पाक से लोगों ने यूँ कहा

या मुस्तफा ! अज़ान गलत देते हैं बिलाल
कहिये हुज़ूर आपका इसमें है क्या खयाल

फ़रमाया मुस्तफा ने ये सच है तो देखिये
वक़्त-ए-सहर है आज अज़ान और कोई दे

हज़रत बिलाल ने जो अज़ान-ए-सहर न दी
क़ुदरत खुदा की देखो न मुतलक़ सहर हुई

आये नबी के पास खुद अस्हाबे बा-सफा
की अर्ज़ मुस्तफा से के या शाहे अम्बिया !

है क्या सबब सहर न हुई आज मुस्तफा !
जिब्रील लाये ऐसे में पैग़ाम-ए-किब्रिया

पहले तो मुस्तफा को अदब से किया सलाम
बा'द अज़ सलाम उनको खुदा का दिया पयाम

यूँ जिब्रील ने कहा खैरुल अनाम से
अल्लाह को है प्यार तुम्हारे गुलाम से

फरमा रहा है आपसे ये रब्बे ज़ुल्जलाल
होगी न सुब्ह देंगे न जब तक अज़ान बिलाल

आशिक़-ए-मुस्तफा की अज़मतें
अल्लाह अल्लाह कितना असर था

अर्श वाले भी सुनते थे जिसको
क्या अज़ान थी अज़ान-ए-बिलाल

काश पुरनम दयार-ए-नबी में 
जीते जी हो बुलावा किसी दिन

हाले ग़म मुस्तफा को सुनाऊँ
थाम कर उनके रोज़े की जाली


Comments

  1. The Casino at Wildhorse | Dr. Maryland
    The Casino 여주 출장샵 at Wildhorse, an IGT and 속초 출장마사지 a food & drink venue. The 세종특별자치 출장안마 casino offers a wide 인천광역 출장샵 variety of slots, table games, and live 의왕 출장샵 entertainment!

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular Naat Lyrics

Humne Aankhon se dekha nahi hai Magar || Lyrics || Wo Muhammad Madine mein Maujud hai || हमने आँखों से देखा नहीं है मगर || ENG HINDI URDU

Allah humma Sallay Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || अल्लाहुम्म सल्ली अला सैय्यिदिना व मौलाना मुहम्मदिन || ENG HINDI URDU

Wo Jiske liye Mehfile Konain saji hai || Wo Mera Nabi hai Lyrics || वो जिसके लिए महफिले कोनैन सजी है || वो मेरा नबी है || وو جسکے لئے محفل کَونَیْن سجی ہے || Lyrics

Fazle Rabbe paak se beta mera dulha bana || Madani Sehra || Lyrics || फ़ज़्ले रब्बे पाक से बेटा मेरा दूल्हा बना || मदनी सेहरा || Haifz Tahir Qadri

Shahe Do Alam Salam Assalam || शाहे दो आलम सलाम अस्सलाम || Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Tumne Shahe Jeelaan Muje Bagdaad bulaya Lyrics || तुमने शाहे जिलान मुझे बग़दाद बुलाया || Owais Raza Qadri

Bulalo Sarkar Tum Apne Dar Par || Salam Lyrics || बुलालो सरकार तुम अपने दर पर

Aye Khatme Rasool Makki Madani || अये खत्मे रसूल मक्की मदनी || Lyrics || Hafiz Uzair Akhtari

Madine ke Aaqa Salamun Alaik Lyrics || मदीने के आक़ा , सलामुन अलैक

Peerane peer mere shahe jilani Lyrics || पीराने पीर मेरे शाहे जिलानी

Facebook Page