Shah Saware Karbala ki Shah Sawari ko Salam Lyrics

English

Rasme Ushshaq yahi hai ke wafa karte hein
Yaani har haal mein haq apna ada karte hein

Hosla Hazrate Shabbir ka Allah Allah
Sar juda hota hai aur shukre Khuda karte hein

Shah Saware Karbala ki Shah Sawari ko Salam
Neze pe Qur'an padne wale Qari ko Salam

Raat Din bichhde huon ki Raah mein rehna khade
Hazrate Sugran Tumhari Intezari ko Salam

Sar se Chadar chhin gayi lekin nazar utthi nahin
Hazrate Zainab Tumhari Parda-dari ko Salam

Muskurate teg pe roshan kiya rangeen charag
Aqbaro Kasim Tumhari Jaan-Nisari ko Salam

Kat gaya kumba musibat sar pe aayi lut gayi
Ho gayi Bhai Bhatijon se judai lut gayi
Umar bhar ki daste gurbat mein kamaii lut gayi
Roke jab kehti thi Zainab haaye bhai lut gayi
Ghar Ali ka kya luta sari Khudai lut gayi

Har Imtihan mein Shabiro Shakir rahe Husain
Kohe Alam uthane ko hazir rahe Husain

Dhoke se kufiyon ne bula kar sitam kiya
Mehman be-watan ko bula kar sitam kiya

Khema lagana naher pe Ahmad ki aal ka
Pani bhi band kar diya Zahra ke Laal ka

Laashon ko bhanjon ki lahu mein sajake laaye
Toote hue Bahisht ke Taare uthake laaye

Aaya kisi ko paas na Roohe Rasool ka
Ghul kar diya charag Mazare Batul ka

Dastaar hai Husain ke sar pe Rasool ki
Thi maut bhi qabool to aesi qabool thi

Chahere pe jiske Maula Ali ka Jalal hai
Kabze mein jiske Bhai Hasan ka kamaal hai

Mein kya kahun mein kaun meri kya majal hai
Sab jaante hein Fatima Zahra ka laal hai

Chehra Rasool ka labo lehja Rasool ka
Aankhon mein khinch raha hai saraapa Rasool ka

Shah Saware Karbala ki Shah Sawari ko Salam
Neze pe Qur'an padne wale Qari ko Salam

हिंदी

रस्मे उश्शाक़ यही है के वफ़ा करते हैं
यानी हर हाल में हक़ अपना अदा करते हैं

हौसला हज़रते शब्बीर का अल्लाह ! अल्लाह !
सर जुदा होता है और शुक्रे खुदा करते हैं

शाह सवारे कर्बला की शाह सवारी को सलाम
नेज़े पे कुर'आन पड़ने वाले कारी को सलाम

रात दिन बिछडे हुओं की राह में रेहना खड़े
हज़रते सुगरां तुम्हारी इन्तेज़ारी को सलाम

सर से चादर छीन गयी लेकिन नज़र उट्ठी नहीं
हज़रते ज़ैनब तुम्हारी पर्दा-दारी को सलाम

मुस्कुराते तेग पे रोशन किया रंगीं चराग
अक़बरो कासिम तुम्हारी जान-निसरि को सलाम

कट गया कुम्बा मुसीबत सर पे आयी लुट गयी
हो गयी भाई भतीजों से जुदाई लुट गयी

उम्र भर की दस्ते ग़ुरबत में कमाई लुट गयी
रोके जब कहती थी ज़ैनब हाय भाई लुट गयी
घर अली का क्या लुटा सारी खुदाई लुट गयी

हर इम्तिहान में शाबिरो शाकिर रहे हुसैन
कोहे अलम उठाने को हाज़िर रहे हुसैन

धोखे से कूफ़ियों ने बुला कर सितम किया
मेहमान बे-वतन को बुला कर सितम किया

खेमा लगाना नहेर पे अहमद की आल का
पानी भी बंद कर दिया ज़हरा के लाल का

लाशों को भांजों की लहु में सजाके लाये
टूटे हुए बहिश्त के तारे उठाके लाये

आया किसी को पास ना रूहे रसूल का
घुल कर दिया चराग मज़ारे बतूल का

दस्तार है हुसैन के सर पे रसूल की
थी मौत भी क़बूल तो ऐसी क़बूल थी

चहेरे पे जिसके मौला अली का जलाल है
कब्ज़े में जिसके भाई हसन का कमाल है

में क्या कहूं में कौन मेरी क्या मजाल है
सब जानते हैं फातिमा जहरा का लाल है

चेहरा रसूल का लबो लेहजा रसूल का
आँखों में खिंच रहा है सरापा रसूल का

शाह सवारे कर्बला की शाह सवारी को सलाम
नेज़े पे कुर'आन पड़ने वाले कारी को सलाम

Comments

Post a Comment

Facebook Page

Followers

Popular Naat Lyrics

Allahumma Salle Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Eng & Hindi Lyrics

Shahe Do alam Salam Assalam Lyrics

Wo jiske liye Mehfile Konain saji hai Lyrics || Roman(Eng) and Hindi(हिंदी)