Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se || पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से || Full Lyrics || Owais Raza Qadri


Roman(ENG)


Paigham saba lai hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Har aah gayi arsh pe ye aah ki Qismat
Har ashq pe ek khuld hai Har ashq ki Qimat
Tohfa ye mila hai Muje Sardare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Shukre Khuda ke aaj gadi Us Safar ki hai
Jis par nisar jaan falaaho zafar ki hai
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Garmi hai tap hai dard hai kulfat safar ki hai
Na shukr ye to dekh azimat kidhar ki hai

Lut te hein maare jaate hein yun hi suna kiye
Har bar dee wo aman ke ghairat hazar ki hai

Hamko to Apne saaye mein aaram hi se laay
Heele bahane walon ko ye raah dar ki hai

Paigham saba layi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Maahe Madina Apni tajalli ata kare
Ye dhalti chandani to pahar do pahar ki hai
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Is ke Tufayl Hajj bhi Khuda ne kara diye
Asle murad Hazari Us Paak Dar ki hai
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Kaabe ka Naam tak na liya Taybah hi kaha
Puchha tha Hamse Jisne ke Nuhzat kidhar ki hai
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Un par Durood Jinko Hajar tak karein salaam
Un par Salam Jinko Tahiyat Shajar ki hai

Un par Durood Jinko kase be kasan kahein
Un par Salam Jin ko khabar be khabar ki hai

Jinno bashar Salam ko Hazir hein Assalam
Ye bargaah Malike Jinno bashar ki hai
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Shamso Qamar salam ko hazir hein Assalam
Khubi Inhi ki jot se Shamso Qamar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Sango Shajar salam to hazir hein Assalam
Kalme se tar zabaan Darakhto Hajar ki hai

Sab bahro bar Salam ko hazir hein assalam
Tamleek Unhin ke naam to har bahro bar ki hai

Arzo asar Salam ko hazir hein Assalam
Malja ye bargah Duao asar ki hai

Shoreeda sar salam ko hazir hein assalam
Rahat unhi ke qadmon mein shoreeda sar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Khasta jigar Salam ko hazir hein Assalam
Marham yahin ki khak toh khasta jigar ki hai

Sab khushko tar Salam ko hazir hein Assalam
Ye jalwa-gaah Malike har khushko tar ki hai

Sab Karro Far salam ko hazir hein Assalam
Tupi yahin to khak pe har karro far ki hai

Ahle nazar Salam ko hazir hein Assalam
Ye gard hi to surma sab ahle nazar ki hai
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Bhaati nahin hamdam Muje jannat ki jawani
Sunta nahin Zahid se mein hooron ki kahani

Ulfat hai Muje Saya-e-Deeware Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Ye pyari pyari kyari Tere khana-bag ki
Sard Iski aabo taab se aatash sakar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Jannat mein aa ke naar mein jata nahin koi
Shukre Khuda Naweed najato zafar ki hai

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Momin hun Mominon pe Raoofurr Rahim ho
Saeel hun Saeelon ko khushi la nahar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Jin Jin muradon ke liye ahbab ne kaha
Peshe khabir kya Muje hajat khabar ki hai

Aa kuchh suna de Ishk ke bolon mein Aye Raza
Mushtaq tab'a lazzate soze jigar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Bhini suhani sub'ha mein thandak jigar ki hai
Kaliyan khilin Dilon ki hawa ye kidhar ki hai

Khubti hui nazar mein ada kis saher ki hai
Chubhti hui jigar mein sada kis gajar ki hai

Dalein hari hari hein to balein bhari bhari
Kishte amal pari hai ye barish kidhar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Ham jayein aur kadam se lipat kar haram kahein
Sonpa Khuda ne Tujko ye azmat safar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Ham girde Kaba firte the kal tak aur Aaj wo
Ham par nisar hai ye iraadat kidhar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Kalak jabeen ki Sajda e Dar se chhuraoge
Mujko bhi le chalo ye tamanna hajar ki hai

Duba hua hai shok mein zamzam aur aankh se
Jaale baras rahe hein ye hasrat kidhar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Barsa ke jane walon ko gohar karun nisar
Abre karam se arz ye meezab e Zar ki hai

Aagoshe shok khole hein jinke liye hatim
Wo firke dekhte nahin ye dhun kidhar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Han han rahe Madina hai gaafil zara to jaag
Oh paaon rakhne wale ye jaa chasmo sar ki hai

Waarun qadam qadam pe ke har dam hai jaane nau
Ye raahe jaan fiza Mere Maula ke dar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Har aah gayi arsh pe ye aah ki qismat
Har ashk pe ek khuld hai har ashk ki kimat
Tohfa ye mila hai Muje Sarkare Nabi se

Gadiyan gini hein barson ki ye shubh gadi firi
Mar mar ke fir ye sil Mere sine se sar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Allah Akbar apne qadam aur ye khake paak
Hasrat Malaika ko jahan wazhe sar ki hai

Meraaz ka sama hai kahan pahunche zaeero
Kursi se unchi kursi isi paak ghar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Mehboob-e-Rabbe arsh hai Is sabz kubba mein
Pahelu mein jalwa gaah ateeko umar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Chhae malaika hein lagatar hai durud
Badle hein pahere badli mein barish durar ki hai

Sattar hazar sub-ha hein sattar hazar sham
Yun bandagi-e-zulfo rukh aathon paher ki hai

Jo ek baar aaye dobara na aayenge
Rukhsat hi bargah se bas is kadar ki hai

Tadpa kare badal ke fir aana kahan naseeb
Be hukm kab majal parinde ko par ki hai

Aye waa-- be kasi-e-tamanna ke ab ummid
Din ko na sham ki hai na shab ko sahar ki hai

Ye badliyaan na hon to karodon ki aas jaye
Aur baargah marhamate aam tar ki hai

Masoomon ko hai umar mein sirf ek baar baar
Aasee pade rahein to sala umar bhar ki hai

Zinda rahein to hazari-e-bargah naseeb
Mar jaayein to hayate abad aish ghar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Kyun taahdaron ! khwab mein dekhi kabhi ye sha'y
Jo aaj joliyon mein gadaayane dar ki hai

Taybah mein marke chale jaao aankhein band
Sidhi sadak ye shahare shafaat nagar ki hai

Aasee bhi hein chahite ye Taybah hai zahidon !
Makka nahin ke janch jahaan khayro shar ki hai

Kaaba hai beshak anjuman aara dulhan magar
Sari bahar dulhanon mein dulha ke ghar ki hai

Kaaba dulhan hai turbate at'har naee dulhan
Ye rashke aaftab wo ghairat qamar ki hai

Donon bani sajili anili bani magar
Jo pike paas hai wo suhagan kanwar ki hai
Aaya hai bulawa muje darbare nabi se

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Itna ajab bulandi-e-jannat pe kis liye
Dekha nahin ke bhikh ye kis unche ghar ki hai

Arshe baree pe kyun na ho firdos ka dimag
Utri hui shabeeha Tere baamo dar ki hai

Wo Khuld jisme utregi abraar ki baraat
Adna nichhawar Us Mere Dulha ke Sar ki hai

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Uf be-hayaeeyan ke ye munh aur Tere huzur
Haan Tu kareem hai teri khu darguzar ki hai

Tujse chhupaun munh to karun kis ke samne
Kya aur bhi kisi se tawaqqo nazar ki hai

Jaaun kahan pukarun kise kiska muh takun
Kya purshish aur jaa bhi sage be hunar ki hai

Sarkar ham ganwaron mein tarze adab kahan
Hamko to bas tameez yahi bhik bhar ki hai

Lab waayein aankhein band hein faily hein joliyan
Kitne maze ki bhik Tere paak dar ki hai

Mangenge mange jayeinge munh mangi payenge
Sarkar mein na "La" hai na hajat "agar" ki hai

Mangata ka hath uthte hi Data ki dayn thi
Doori kubulo araz mein bas hath bhar ki hai

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se


Jannat na dein , naad dein , Teri ru'yat ho khair se
Is gul ke aage kisko hawas bhargo bhar ki hai

Sharbat na dein , na dein, to kare baat lutf se
Ye shahad ho to fir kise parwah shakar ki hai

Sanki wo dekh baade shafa-at ke de hawa
Ye aabaroo Raza Tere Daamaane tar ki hai

Paigham saba laayi hai Gulzare Nabi se
Aaya hai bulawa Muje Darbare Nabi se






हिंदी (HINDI):


पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

हर आह गयी अर्श पे ये आह की क़िस्मत
हर अश्क़ में एक खुल्द है हर अश्क़ की क़ीमत
तोहफा ये मिला है मुझे सरदारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

शुक्रे खुदा के आज गड़ी उस सफर की है
जिस पर निसार जान फलाहो ज़फर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

गर्मी है तप है कुल्फ़त सफर की है
न शुक्र ये तो देख अज़ीमत किधर की है

हमको तो अपने साये में आराम ही से लाये
हीले बहाने वालों को ये राह दर की है

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

माहे मदीना अपनी तजल्ली अता करे
ये ढलती चांदनी तो पहर दो पहर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

इसके तुफैल हज भी खुदा ने करा दिए
असले मुराद हाज़री उस पाक दर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

काबे का नाम तक न लिया तयबाह ही कहा
पूछा था हमसे जिसने के नौहजात किधर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

उनपर दुरूद जिनको हजर तक करें सलाम
उनपर सलाम जिनको तहियत शजर की है 

उनपर दुरूद जिनको कसे बे कसां कहें
उनपर सलाम जिनको खबर बेखबर की है

जिन्नो बशर सलाम को हाज़िर हैं अस्सलाम
ये बारगाह मालिके जिन्नो बशर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

शम्सो कमर सलाम को हाज़िर हैं अस्सलाम
खूबी इन्हीं की जोत से शम्सो कमर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

संगो शजर सलाम को हाज़िर हैं अस्सलाम
कलमे से तर ज़बान दरख्तों हजर की है

सब बहरो बर सलाम को हाज़िर हैं अस्सलाम
तम्लीक उन्हीं के नाम तो हर बहरो बर की है

अर्ज़ो असर सलाम को हाज़िर हैं अस्सलाम
मल्जा ये बारगाह दुआओ असर की है

शोरीदा सर सलाम को हाज़िर हैं अस्सलाम
रहत उन्हीं के क़दमों में शोरीदा सर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

खस्ता जिगर सलाम को हाज़िर हैं अस्सलाम
मरहम यहीं की खाक तो खस्ता जिगर की है

सब ख़ुश्को तर सलाम को हाज़िर हैं अस्सलाम
ये जलवा-गाह मालिके हर ख़ुश्को तर की है

सब कर्रो फर सलाम को हाज़िर हैं अस्सलाम
तुपी यहीं तो खाक पे हर कर्रो फर की है 

अहले नज़र सलाम को हाज़िर हैं अस्सलाम
ये गर्द ही तो सुरमा सब अहले नज़र की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

भाति नहीं हमदम मुझे जन्नत की जवानी
सुनता नहीं ज़ाहिद से में हूरों की कहानी

उल्फत है मुझे साया-इ-दीवारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

ये प्यारी प्यारी क्यारी तेरे खाना बाग़ की
सर्द इसकी आबो ताब से आतश सकर की है 
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

जन्नत में आके नार में जाता नहीं कोई
शुक्रे खुदा नवीद नजातो ज़फर की है

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

मोमिन हूँ मोमिनों पे रऊफ़ु-ररहीम हो
साईल हूँ साईलों को ख़ुशी ला नहर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

जिन जिन मुरादों के लिए अहबाब ने कहा
पेशे खबीर क्या मुझे हाजत खबर की है

आ कुछ सुना दे इश्क़ के बोलों में अये रज़ा
मुश्ताक़ तबअ लज़्ज़ते सोजे जिगर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

भीनी सुहानी सुब्ह में ठंडक जिगर की है
कलियाँ खिली दिलों की हवा ये किधर की है

खुबती हुई नज़र में अदा किस सहर की है
चुभती हुई जिगर में सदा किस गजर की है 

डालें हरी हरी हैं तो बालें भरी भरी
किश्ते अमल परी है ये बारिश किधर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

हम जाएं और क़दम से लिपट कर हरम कहें
सौंपा खुदा ने तुझको ये अज़मत सफर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

हम गिरदे  काबा फिरते थे कल तक और आज वो
हम पर निसार है ये इरादत किधर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

कलक जबीन की सजदा-इ-दर से छुड़ाओगे
मुझको भी ले चलो ये तमन्ना हजर की है

डूबा हुआ है शौक़ में ज़मज़म और आँख से
जाले बरस रहे हैं ये हसरत किधर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

बरसा के जाने वालों को गोहर करूँ निसार
अब्रे करम से अर्ज़ ये मीज़ाबे ज़र की है 

आग़ोशे शोक खोले हैं जिनके लिए हतीम
वो फिरके देखते नहीं ये धुन किधर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

हां हां रहे मदीना है गाफिल ज़रा तो जाग
ओह पाओं रखने वाले ये जा चश्मों सर की है

वारुं क़दम क़दम पे के हर दम है जाने नौ
ये रहे जां फ़िज़ा मेरे मौला के दर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

हर आह गयी अर्श पे ये आह की क़िस्मत
हर अश्क में एक खुल्द है हर अश्क की क़ीमत
तोहफा ये मिला है मुझे सरकार नबी से

गड़ियाँ गिनी हैं बरसों की ये शुभ गड़ी फिरि
मर मर के फिर ये सील मेरे सीने से सर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

अल्लाह अकबर ! अपने क़दम और ये खाके पाक
हसरत मलाइका को जहाँ वज्हे सर की है

मेराज का समां है कहाँ पहुंचे जाइरो
कुर्सी से ऊँची कुर्सी इसी पाक घर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

महबूबे रब्बे अर्श है इस सब्ज़ क़ुब्बा में
पहलू में जलवा-गाह अतीको उम्र की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

छाए मलाइका हैं लगातार है दुरूद
बदले हैं पहरे बदली में बारिश दूरर की है

सत्तर हज़ार सुब्ह हैं सत्तर हज़ार शाम
यूँ बंदगी-इ-ज़ुल्फो रुख आठों पहर की है

जो एक बार आये दोबारा न आएंगे
रुखसत ही बारगाह से बस इस क़बर की है

तड़पा करे बदल के फिर आना कहाँ नसीब
बे हुक्म कब मजाल परिंदे को पर की है

अये वा-इ-बेकसी-इ-तमन्ना के अब उम्मीद
दिन को न शाम की है, न शब् को सहर की है

ये बदलियां न हों तो करोड़ों की आस जाए
और बारगाह मरहमते आम तर की है

मासूमों को है उम्र में बस एक बार बार
आसी पड़े राहें तो सला उम्र भर की है

ज़िंदा रहे तो हाज़री-इ-बारगाह नसीब
मर जायें तो हयाते अबद ऐश घर क है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

क्यों ताहदारों ! ख्वाब में देखि कभी ये शय
जो आज जोलियों में गदायाने दर की है 

तयबाह में मर के चले जाओ आंखें बंद
सीधी सड़क ये शहरे शफ़ाअत नगर की है

आसी भी हैं चहिते ये तयबाह है ज़ाहिदों !
मक्का नहीं के जाँच जहाँ खैरो शर की है

काबा है बेशक अंजुमन आरा दुल्हन मगर
ये रश्के आफ़ताब वो ग़ैरत कमर की है

दोनों बानी सजीली अनीली बनी मगर
जो पीके पास है वो सुहागन कँवर की है
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

इतना अजब बुलंदी-इ-जन्नत पे किस लिए
देखा नहीं के भीख ये किस ऊँचे दर की है

अर्शे बरी पे क्यों न हो फिरदोस का दिमाग
उतरी हुई शबीहा तेरे बामो दर की है

वो खुल्द जिसमें उतरेगी अबरार की बरात
अदना निछावर उस मेरे दूल्हा के सर की है

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

उफ़ बे हयाईयाँ के ये मुंह और तेरे हुज़ूर
हां तू करीम है तेरी खू दरगुज़र की है

तुजसे छुपाऊं मुंह तो करूँ किसके सामने
क्या और भी किसी से तवक़्क़ो नज़र की है

सरकार हम जानवरों में तर्ज़े अदब कहाँ
हमको तो बस तमीज यही भिक भर की है

लब वाएं आँखें बंद हैं, फैली हैं जोलियाँ
कितने मज़े की भिक तेरे पाक दर की है

मांगेंगे मांगें जाएंगे मुँह मांगी पाएंगे
सरकार में न ला है न हाजत अगर की है

मंगता का हाथ उठते ही दाता की दैन थी
दूरी कुबुलो अर्ज़ में बस हाथ भर की है

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

जन्नत न दें, नाद दें, तेरी रूयत हो खैर
इस गुल के आगे किसको हवस भर्गो भर की है

शरबत न दें, तो न दें, करें बात लुत्फ़ से
ये शहद हो तो फिर किसे परवाह सकर की है 

सनकी वो देख बादे शफ़ाअत के दे हवा
ये आबरू रज़ा तेरे दामाने तर की है

पैग़ाम सबा लाई है गुलज़ारे नबी से
आया है बुलावा मुझे दरबारे नबी से

Comments

Popular Naat Lyrics

Humne Aankhon se dekha nahi hai Magar || Lyrics || Wo Muhammad Madine mein Maujud hai || हमने आँखों से देखा नहीं है मगर || ENG HINDI URDU

Allah humma Sallay Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || अल्लाहुम्म सल्ली अला सैय्यिदिना व मौलाना मुहम्मदिन || ENG HINDI URDU

Wo Jiske liye Mehfile Konain saji hai || Wo Mera Nabi hai Lyrics || वो जिसके लिए महफिले कोनैन सजी है || वो मेरा नबी है || وو جسکے لئے محفل کَونَیْن سجی ہے || Lyrics

Fazle Rabbe paak se beta mera dulha bana || Madani Sehra || Lyrics || फ़ज़्ले रब्बे पाक से बेटा मेरा दूल्हा बना || मदनी सेहरा || Haifz Tahir Qadri

Shahe Do Alam Salam Assalam || शाहे दो आलम सलाम अस्सलाम || Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Tumne Shahe Jeelaan Muje Bagdaad bulaya Lyrics || तुमने शाहे जिलान मुझे बग़दाद बुलाया || Owais Raza Qadri

Bulalo Sarkar Tum Apne Dar Par || Salam Lyrics || बुलालो सरकार तुम अपने दर पर

Aye Khatme Rasool Makki Madani || अये खत्मे रसूल मक्की मदनी || Lyrics || Hafiz Uzair Akhtari

Madine ke Aaqa Salamun Alaik Lyrics || मदीने के आक़ा , सलामुन अलैक

Peerane peer mere shahe jilani Lyrics || पीराने पीर मेरे शाहे जिलानी

Facebook Page