Alwada Alwada Maahe Ramzan Lyrics || Owais Raza Qadri || Roman(Eng) & हिंदी(Hindi)


Roman(Eng) :


Qalbe Aashik hai ab paara paara
Alwada Alwada Maahe Ramzaan
Ulfate Hijro Furkat ne maara
Alwada Alwada Maahe Ramzan

Tere aane se dil khush hua tha
Aur zoke ibadat badah tha
Aah ab dil pe hai gham ka galba
Alwada Alwada Maahe Ramzan

Alwada Alwada Maahe Ramzan
Alwada Alwada Maahe Ramzan

Bazme Iftaar sajti thi kaisi
Khub saheri ki ronak bhi hoti
Ho gaya sab sama suna suna
Alwada Alwada Maahe Ramzan

Alwada Alwada Maahe Ramzan
Alwada Alwada Maahe Ramzan

Be karaari badhi jaa rahi hai
Hijr ki ab gadi aa rahi hai
Dil hua jaata hai paara paara
Alwada Alwada Maahe Ramzan

Kuchh na husne amal kar saka hun
Nazr chand ashk mein kar raha hun
Bas yahi hai Mera kual asaasa
Alwada Alwada Maahe Ramzaan

Tujpe lakhon Salaam Maahe Ramzaan
Tumpe lakhon Salaam Maahe Gufraan
Jaao Haafiz Khuda ab Tumhara
Alwada Alwada Maahe Ramzan

Bekarari badhi jaa rahi hai
Hijr ki ab gadi aa rahi hai
Dil hua jaata hai paara paara
Alwada Alwada Maahe Ramzan

Jab guzar jayeinge Maah Gyaarah
Teri aamad ka fir Shor hoga
Kya Meri zindagi ka bharosa
Alwada Alwada Maahe Ramzan

Wasta Tujko Pyaare Nabi ka
Roze Maheshar Hamein na bhul jaana
Roze Maheshar Hamein bakhshwana
Alwada Alwada Maahe Ramzan

Kuchh na husne amal kar saka hun
Nazr chand ashk mein kar raha hun
Hamse khush hoke hona rawana
Alwada Alwada Maahe Ramzan

Teri Aamad se Dil khush hua tha
Aur zauqe Ibaadat badaah tha
Aah ab Dil pe hai gham ka galaba
Alwada Alwada Maahe Ramzan

Saale aaeenda Shahe Haram Tum
Karna Attar par ye karam Tum
Fir Madine mein Ramzaan dikhana
Alwada Alwada Maahe Ramzan


हिंदी(Hindi) :

कल्बे आशिक़ है अब पारा पारा
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान
उल्फ़ते हिजरो फुरकत ने मारा
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान

तेरे आने से दिल खुश हुआ था
और ज़ौक़े इबादत बड़ा था
हाय अब दिल पे है गम का ग़लबा
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान

बज़्मे इफ्तार सजती थी कैसी
खूब सहरी की रौनक भी होती
हो गया सब समां सुना सुना
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान

बेकरारी बड़ी जा रही है
हिज्र की अब गड़ी आ रही है
दिल हुआ जाता है पारा पारा
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान

कुछ ना हुस्ने अमल कर सका हूँ
नज़र चंद अश्क़ में कर रहा हूँ
बस यही है मेरा कुल असारा
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान

तुजपे लाखों सलाम माहे रमज़ान
तुमपे लाखों सलाम माहे गुफरान
जाओ हाफ़िज़ खुदा अब तुम्हारा
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान

बेकरारी बड़ी जा रही है
हिज्र की अब गड़ी आ रही है
दिल हुआ जाता है पारा पारा
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान

जब गुज़र जाएंगे माह ग्यारह
तेरी आमद का फिर शोर होगा
क्या मेरी ज़िन्दगी का भरोसा
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान

वास्ता तुझको प्यारे नबी का
रोज़े महेशर हमें ना भूल जाना
रोज़े महेशर हमें बख्शवाना
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान

कुछ ना हुस्ने अमल कर सका हूँ
नज़र चंद अश्क़ में कर रहा हूँ
हमसे खुश होके होना रवाना
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान

तेरे आने से दिल खुश हुआ था
और ज़ौक़े इबादत बड़ा था
आह अब दिल पे है गम का ग़लबा
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान

साले आइंदा शाहे हरम तुम
करना अत्तार पर ये करम तुम
फिर मदीने में रमज़ान दिखाना
अलवदा अलवदा माहे रमज़ान

Comments

Facebook Page

Followers

Popular Naat Lyrics

Wo jiske liye Mehfile Konain saji hai Lyrics || Roman(Eng) and Hindi(हिंदी)

Shahe Do Aalam Salaam Assalaam Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Allahumma Salle Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || Roman (Eng) & हिंदी (Hindi)