Mujko Ramzaan ka Mahina acchha lagta hai Lyrics || Ramzaan Special || Hafiz Tahir Qadri || Roman(Eng) & हिंदी(Hindi)


Roman(Eng) :


Aaya Allah ka Mehmaan, Aaya hai Maahe Ramzaan
Lekar Haathon mein Quraan , Aaya hai Maahe Ramzaan

Rehmate Ramzaan, Rehmate Ramzaan, Rehmate Ramzaan

Mujko Ramzaan ka Mahina acchha lagta hai
Sahri aur Iftaar karnaa acchha lagta hai

Mujko Ramzaan ka Mahina acchha lagta hai

Ramzaan ke Roze rakkhunga, Mein saari Namaazein padhungaa
Quraan ki Tilaawat karunga, Aur Deen ki Baatein Sikhungaa

Rahmaan Raazi hoga, Rahmaan Raazi hoga
Rahmaan Raazi hoga, Rahmaan Raazi hoga

Dekh Falak pe Chaand Chamkaa Maahe Ramzaan aaya
Nikhraa Nikhraa har ek chaheraa Maahe Ramzaan aaya

Dekho Falak pe Chaand Chamkaa Maahe Ramzaan aaya
Nikhraa Nikhraa har ek Chaheraa Maahe Ramzaan aaya

Pure Mahine Roze rakhnaa, Acchhaa lagtaa hai
Mujko Ramzaan ka Mahina acchha lagta hai

Bacchon Roza rakhna hai, Qurb Khuda ka paana hai
Raazi hota hai Rehmaan, aaya hai Maahe Ramzaan

Ramzaan mein Momeen ke Muqaddar Roshan lagte hein
Masjid ke Mehraabo Mimbar Roshan lagte hein

Masjid mein Logon ka badnaa Acchha lagta hai
Mujko Ramzaan ka Mahina acchha lagta hai

Ramzaan ke Roze rakkhunga, Mein saari Namaazein padhungaa
Quraan ki Tilaawat karunga, Aur Deen ki Baatein Sikhungaa

Rabb ki Rahmat Ghar Ghar utri , aaya hai Mehmaan
Maze Maze ki khushbu faili, saje hein Dastar-khwaan

Iftaari mein mil kar khaana, acchha lagta hai
Mujko Ramzaan ka Mahina acchha lagta hai

Gumbade Khazraa ke saaye mein Ham sab baithe hon
Dastar-khwaan sajaa ho, Lab par Unki Naatein hon

Taybaa mein Iftaari karna, acchha lagta hai
Mujko Ramzaan ka Mahina acchha lagta hai

Muje nek banna hai, Muje nek banna hai
Muje nek banna hai, Muje nek banna hai

Nafraton ko chhod ke, Toote Dilon ko jhod ke
Maahe Ramzaan ki Barkat se Ek banna hai

Muje nek banna hai, Muje nek banna hai
Muje nek banna hai, Muje nek banna hai

Rishwat lena aur dena, Sood pe business kyun karna
Maahe Ramzaan ki Barkat se bachte rehna hai

Geebat aur Chugalkhori, Neki se hai Gaddari
Maahe Ramzaan ki barkat se Haq hi kehna hai

Muje nek banna hai, Muje nek banna hai
Muje nek banna hai, Muje nek banna hai

Ashraa-e-Rehmat , Ashraa-e-Barkat , Naar se Aazaadi
Maang Ujaagar Apni bakhshish , banjaa fariyaadi

Rabb se Duaaein karte rehnaa, acchhaa lagta hai
Mujko Ramzaan ka Mahina acchha lagta hai


हिंदी (Hindi):


आया अल्लाह का मेहमान , आया है माहे रमज़ान
लेकर हाथों में क़ुरआन , आया है माहे रमज़ान

रेहमते रमज़ान, रेहमते रमज़ान, रेहमते रमज़ान

मुझको रमज़ां का महीना अच्छा लगता है
सहरी और इफ्तारी करना अच्छा लगता है

मुझको रमज़ां का महीना अच्छा लगता है

रमज़ान के रोज़े रखूँगा , में सारी नमाज़ें पडूंगा
क़ुरआन की तिलावत करूँगा , और दीन की बातें सीखूंगा

रहमान राज़ी होगा, रहमान राज़ी होगा
रहमान राज़ी होगा, रहमान राज़ी होगा

देख फलक पे चाँद चमका माहे रमज़ां आया
निखरा निखरा हर एक चहेरा माहे रमज़ां आया

पुरे महीने रोज़े रखना , अच्छा लगता है
मुझको रमज़ां का महीना अच्छा लगता है

बच्चों! रोज़ा रखना है , क़ुर्ब खुदा का पाना है
राज़ी होता है रहमान , आया है माहे रमज़ान

रमज़ां में मोमिन के मुक़द्दर रोशन लगते हैं
मस्जिद के मेहराबों मिम्बर , रोशन लगते हैं

रमज़ान के रोज़े रखूँगा , में सारी नमाज़ें पडूंगा
क़ुरआन की तिलावत करूँगा , और दीन की बातें सीखूंगा

रब्ब की रहमत घर घर उत्तरी , आया है महेमान
मज़े मज़े की खुशबु फैली, सजे हैं दस्तरख्वान

इफ्तारी में मिल कर खाना अच्छा लगता है
मुझको रमज़ां का महीना अच्छा लगता है

गुम्बदे ख़ज़रा के साये में हम सब बैठे हों
दस्तरख्वान सजा हो लब पर उनकी नाते हों

तयबाह में इफ्तारी करना अच्छा लगता है
मुझको रमज़ां का महीना अच्छा लगता है

मुझे नेक बनना है , मुझे नेक बनना है
मुझे नेक बनना है , मुझे नेक बनना है

नफरतों को छोड़ के टूटे दिलों को जोड़ के
माहे रमज़ां की बरकत से एक बनना है

मुझे नेक बनना है , मुझे नेक बनना है
मुझे नेक बनना है , मुझे नेक बनना है

रिश्वत लेना और देना, सूद पे बिज़नेस क्यों करना
माहे रमज़ां की बरकत से बचते रहना है

ग़ीबत और चुगलखोरी , नेकी से है गद्दारी
माहे रमज़ां की बरकत से हक़ ही कहना है

मुझे नेक बनना है , मुझे नेक बनना है
मुझे नेक बनना है , मुझे नेक बनना है

अशरा-इ-रेहमत, अशरा-इ-बरकत, नार से आज़ादी
मांग उजागर अपनी बख्शीश, बनजा फरियादी

रब्ब से दुआएं करते रहना अच्छा लगता है
मुझको रमज़ां का महीना अच्छा लगता है

Comments

Facebook Page

Followers

Popular Naat Lyrics

Wo jiske liye Mehfile Konain saji hai Lyrics || Roman(Eng) and Hindi(हिंदी)

Shahe Do Aalam Salaam Assalaam Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Allahumma Salle Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || Roman (Eng) & हिंदी (Hindi)