Wo Imaam Ahmad Raza hai Lyrics || Nisar Ahmed Marfani Roman(Eng) & Hindi

Roman(Eng) :


Ahmad Raza Ahmad Raza Ahmad Raza Ahmad Raza
Ahmad Raza Ahmad Raza Ahmad Raza Ahmad Raza

Jo Qudsi Hashr mein Puchhenge Mujse Kiska Peiro tha
Kahunga karke Sar uncha Imaam Ahmad Raza Khaan ka

Jo Ataa-e-Mustafa hai Aur Raza-e-Kibriya
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza
Deen ka Jo Paasbaa hai Aur Hamara Rahnuma
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Sunniyon ka Peshwaa Mera Raza Mera Raza
Ilmo Fann ka Badshah Mera Raza Mera Raza
Hai Madine ki Ziya Mera Raza Mera Raza
Gause Aazam ki ataa Mera Raza Mera Raza

Jo Ataa-e-Mustafa hai Aur Raza-e-Kibriya
Aala Hazrat Meri Jaan Aala Hazrat Meri Jaan

Jiska Seena hai Ameen Maula Ali ke Ilm ka
Ahle Sunnat ko mili Jis se Fatawa Razawiya
Jiska Ham par bil-yaqeen Ahesaan hai be-inteha
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Jo Ataa-e-Mustafa hai Aur Raza-e-Kibriya
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Jo Zamaane ka yaqeenan Aala Hazrat ban gaya
Fiqha mein Jo Bu-Hanifa bhi tha Apne Waqt ka
Jo hai Sarkare Do Aalam ka Yaqeenan Mojzaa
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Jo Ataa-e-Mustafa hai Aur Raza-e-Kibriya
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Mash-ale Raahe Tareeqat Jiski Har Tehreer hai
Dushmanon ke Waste Jiska Qalam Shamsheer hai
Jiski Haybat se abhi tak Najd mein hai Zalzala
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Jo Ataa-e-Mustafa hai Aur Raza-e-Kibriya
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Ahle Ilmo Fiqh mein Jiski Alag Pehhaan hai
Jiski Ilmi Shaano Shouqat par Jahan Qurbaan hai
Jiske Fann ki Chaarsoo faili Zamane mein Ziyaa
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Jo Ataa-e-Mustafa hai Aur Raza-e-Kibriya
Aala Hazrat Meri Jaan Aala Hazrat Meri Jaan

Jiski hein Saari adaaein Sunnate Khairul Bashar
Raat Din Zikre Nabi mein hi kiye Jisne Basar
Ho gaya Fazle Khuda se Jo Habeebe Mustafa
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Jo Ataa-e-Mustafa hai Aur Raza-e-Kibriya
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Ilmo Faizane Raza ki Jo Niri Tasweer hai
Khud Wo Sar se Paa talak Tanweer hi Tanweer hai
Gulshane Ahmad Raza ka Phool Wo Akhtar Raza
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Jo Ataa-e-Mustafa hai Aur Raza-e-Kibriya
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Paykare Haqqo Sadaqat Jiski hai Zaate Mubeen
Qalb par Jiske hua Taameer Ishqe Shaahe Deen
Hai Dilo Jaan se Ye Tafseere Raza Jis par Fida
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Jo Ataa-e-Mustafa hai Aur Raza-e-Kibriya
Wo Imaam Ahmad Raza hai Wo Imaam Ahmad Raza

Sunniyon ka Peshwaa Mera Raza Mera Raza
Ilmo Fann ka Badshah Mera Raza Mera Raza
Hai Madine ki Ziya Mera Raza Mera Raza
Gause Aazam ki ataa Mera Raza Mera Raza


हिंदी :

अहमद रज़ा अहमद रज़ा अहमद रज़ा अहमद रज़ा
अहमद रज़ा अहमद रज़ा अहमद रज़ा अहमद रज़ा

जो क़ुद्सी हष्र में पूछेंगे मुझसे किसका पैरो था
कहूँगा करके सर ऊँचा इमाम अहमद रज़ा खान का

जो आता-इ-मुस्तफा है और रज़ा-इ-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा
दीन का जो पासबाँ है और हमारा रहनुमा
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

सुन्नियों का पेश्वा मेरा रज़ा मेरा रज़ा
इल्मो फन का बादशाह मेरा रज़ा मेरा रज़ा
है मदीने की ज़िया मेरा रज़ा मेरा रज़ा
गौसे आज़म की अता मेरा रज़ा मेरा रज़ा

जो अता-इ-मुस्तफा है और रज़ा-इ-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

जिसका सीना है अमीन मौला अली के इल्म का
अहले सुन्नत को मिली जिस से फतावा रजविया
जिसका हम पर बिल-यक़ीन अहेसान है बे-इन्तहा
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

जो अता-इ-मुस्तफा है और रज़ा-इ-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

जो ज़माने का यक़ीनन आला हज़रात बन गया
फ़िक़्ह में जो बू-हनीफ़ा भी था अपने वक़्त का
जो है सरकारे दो आलम का यक़ीनन मोजज़ा
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

जो अता-इ-मुस्तफा है और रज़ा-इ-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

मश-अले राहे तरीक़त जिसकी हर तेहरीर है
दुश्मनों के वास्ते जिसका क़लम शमशीर है
जिसकी हैबत से अभी तक नज्द में है ज़लज़ला
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

जो अता-इ-मुस्तफा है और रज़ा-इ-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

अहले इल्मो फ़िक़्ह में जिसकी अलग पेहचान है
जिसकी इल्मी शानो शौकत पर जहाँ क़ुर्बान है
जिसके फन की चारसू फैली ज़माने में ज़िया
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

जो अता-इ-मुस्तफा है और रज़ा-इ-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

जीसकी हैं सारी अदाएं सुन्नते खैरुल बशर
रात दिन ज़िक्रे नबी में ही किये जिसने बसर
हो गया फ़ज़ले ख़ुदा से जो हबीबे मुस्तफा
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

जो अता-इ-मुस्तफा है और रज़ा-इ-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

इल्मो फैजाने राजा की जो निरि तस्वीर है
खुद वो सर से पा तलक तनवीर ही तन्वीर है
गुलशने अहमद रज़ा का फूल वो अख्तर रज़ा
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

जो अता-इ-मुस्तफा है और रज़ा-इ-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

पैकरे हक़्क़ो सदाक़त जीसकी है ज़ाते मुबीन
क़ल्ब पर जिसके हुआ तामीर इश्क़े शाहे दीं
है दिलो जान से ये तफ़्सीरे राजा जिस पर फ़िदा
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

जो अता-इ-मुस्तफा है और रज़ा-इ-किब्रिया
वो इमाम अहमद रज़ा है वो इमाम अहमद रज़ा

सुन्नियों का पेश्वा मेरा रज़ा मेरा रज़ा
इल्मो फन का बादशाह मेरा रज़ा मेरा रज़ा
है मदीने की ज़िया मेरा रज़ा मेरा रज़ा
गौसे आज़म की अता मेरा रज़ा मेरा रज़ा

Comments

Facebook Page

Followers

Popular Naat Lyrics

Allahumma Salle Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Eng & Hindi Lyrics

Shahe Do alam Salam Assalam Lyrics

Wo jiske liye Mehfile Konain saji hai Lyrics || Roman(Eng) and Hindi(हिंदी)