Meri Ulfat Madine se yunhi nahi Lyrics || मेरी उल्फत मदीने से यूँहीं नहीं || Hafiz Tahir Qadri

Roman (ENG) :

wo madina jo konain ka taaj hai
jiska deedar momin ki me'raaj hai
zindagi me.n KHuda har musalman ko
woh madina dikha de to kya baat hai

meri ulfat madine se yu.nhi nahi.n
mere aaqa ka roza madine me.n hai
mai.n madine ki jaanib na kaise khichu.n
mera deen aur duniya madine me.n hai

arsh-e-aa'zam se jiski badhi shaan hai
roza-e-mustafa jiski pehchaan hai
jiska ham-palla koi Mohalla nahi.n
ek aisa mohalla madine me.n hai

humko apni talab se siwa chahiye
aap jaise he.n waisi 'ataa chahiye
kyu.n kahu.n te 'ataa woh 'ataa chahiye
aap ko ilm hai hamko kya chahiye
aashikaan-e-nabi ke hai dil ki sada
sabz gumbad ke saaye me.n ghar chahiye

fir mujhe maut ka koi khatra na ho
maut kya zindagi ki bhi parwaah na ho
kaash sarkar ek baar mujhse kahe.n
ab tera jeena marna madine me.n hai

meri ulfat madine se yu.nhi nahi.n
mere aaqa ka roza madine me.n hai
mai.n madine ki jaanib na kaise khichu.n
mera deen aur duniya madine me.n hai

raate.n bhi madine ki, baate.n bhi madine ki
jeene me.n ye jeena hai, kya baat hai jeene ki

sarwar-e-do jahaa.n se dua hai meri
haa.n yahi chashm-e-tar iltija hai meri
unki fehrisht me.n mera bhi naam ho
jinka rozaana jaana madine me.n hai

meri ulfat madine se yu.nhi nahi.n
mere aaqa ka roza madine me.n hai
mai.n madine ki jaanib na kaise khichu.n
mera deen aur duniya madine me.n hai



हिंदी (Hindi) :


वो मदीना जो कुनैन का ताज है
जिसका दीदार मोमिन की मेराज है
ज़िन्दगी में खुदा हर मुसलमान को
वो मदीना दिखा दे तो क्या बात है


मेरी उल्फत मदीने से यूँहीं नहीं
मेरे आक़ा का रोज़ा मदीने में है
में मदीने की जानिब न कैसे खीचूँ
मेरा दीं और दुनिया मदीने में है


अर्शे आज़म पे जिसकी बड़ी शान है
रोज़ा-इ-मुस्तफा जिसकी पहचान है
जिसका हमपल्ला कोई महोल्ला नहीं
एक ऐसा महोल्ला मदीने में है

हमको अपनी तलब से सिवा चाहिए
आप जैसे हैं वैसी अता चाहिए
क्यों कहूं ये अता वो अता चाहिए
आपको इल्म है हमको क्या चाहिए
आशिकाने नबी के है दिल की सदा
सब्ज़ गुम्बद के साये में घर चाहिए


फिर मुझे मौत का कोई खतरा न हो
मौत क्या ज़िन्दगी की भी परवाह न हो
काश सरकार एक बार मुझसे कहें
अब तेरा जीना मरना मदीने में है

मेरी उल्फत मदीने से यूँहीं नहीं
मेरे आक़ा का रोज़ा मदीने में है
में मदीने की जानिब न कैसे खीचूँ
मेरा दीं और दुनिया मदीने में है


रातें भी मदीने की , बातें भी मदीने की
जीने में ये जीना है, क्या बात है जीने की


सरवरे दो जहां से दुआ है मेरी
हाँ यही चश्मे तर इल्तिजा है मेरी
उनकी फेहरिस्त में मेरा भी नाम हो
जिनका रोज़ाना जाना मदीने में है

मेरी उल्फत मदीने से यूँहीं नहीं
मेरे आक़ा का रोज़ा मदीने में है
में मदीने की जानिब न कैसे खीचूँ
मेरा दीं और दुनिया मदीने में है



Naat Khwan : 

Hafiz Tahir Qadri

Comments

Facebook Page

Popular Naat Lyrics

Hajiyon Mustafa se keh dena Lyrics || हाजियों मुस्तफा से कह देना || حاجیوں ! مصطفیٰ سے کہ دینا

Labbayk Allahumma Labbayk Nasheed Lyrics || Owais Raza Qadri

Humne Aankhon se dekha nahi hai Magar Lyrics in English ~ Hindi ~ Urdu

Wo Mera Nabi hai - Wo Jiske liye Mehfil e Konain saji hai - Lyrics - English Hindi Urdu

Zaeere Taiba Roze pe jaa kar Lyrics || जाइरे तैबा रोज़े पे जा कर || زائرِ طیبہ ! روزے پے جا کر ، تو سلام انسے رو رو کے کہنا || Roman (Eng) & हिंदी (Hindi)

Maula Ya Salli wa Sallim || Salam Lyrics || मौला या सल्ली व सल्लिम || مَولَاىَ صَلِّ وَسَلِّمْ دَائِمًا أَبَدًا || Danish & Dawar || Roman(ENG) & हिंदी(HINDI) & (URDU) اردو

Meri Maa Pyari Maa Lyrics || Shahana Shaikh || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

al madad peerane peer , gaus-e-aazam dastageer naat lyrics in English ~ Hindi ~ Urdu

Paigam saba lai hai Gulzar e Nabi se Full Lyrics by Owais Raza Qadri in English ~ Hindi