Unka mangta hu Jo mangta nahi hone dete Lyrics || उनका मंगता हूँ जो मंगता नहीं होने देते || Hafiz Tahir Qadri


Roman(Eng) :


Ban gayi Baat Unka Karam ho gayaa
Shaakhe Nakhle Tamanna hari ho gayi

Mere Lab pe Madine ka Naam aa gayaa
Baithe Baithe Meri haazari ho gayi

Mujpe kitnaa Niyaazi Karam ho gayaa
Duniyaa kehne lagi Panjatan ka Gadaa

Is Garaane ka jabse Mein nokar huaa
Sabse acchhi Meri nokari ho gayi


Unkaa mangtaa hun Jo mangtaa nahin hone dete
Ye Hawaale, Muje ruswaa nahin hone dete

Mere Har ayeb ki karte hein Wo pardaa poshi
Mere jurmon ka tamaasha nahin hone dete

Unkaa mangtaa hun Jo mangtaa nahin hone dete

Apne Mangton ki Wo faherist mein rakhte hein sadaa
Mujko mohtaaj kisi ka nahin hone dete

Unkaa mangtaa hun Jo mangtaa nahin hone dete


Hai Ye Imaan ke aayeinge lahad mein Meri
Apne Mangton ko Wo tanhaa nahin hone dete

Unkaa mangtaa hun Jo mangtaa nahin hone dete

Naat padhta hun to aati hai mahak Taybaa ki
Mere Lehje ko Wo mailaa nahin hone dete

Unkaa mangtaa hun Jo mangtaa nahin hone dete

Aapki Yaad se Rehti hai namee aankhon mein
Mere Dariyaaon ko Saheraa nahin hone dete

Unkaa mangtaa hun Jo mangtaa nahin hone dete

Hukm karte hein to milte hein ye Maqte Shaakir !
Aap na chaahein to matlaa nahin hone dete

Unkaa mangtaa hun Jo mangtaa nahin hone dete


हिंदी(HINDI): :


बन गयी बात उनका करम हो गया
शाखे नख्ले तमन्ना हरी हो गयी

मेरे लब पे मदीने का नाम आ गया
बैठे बैठे मेरी हाज़री हो गयी

मुझपे कितना नियाज़ी करम हो गया
दुनिया कहने लगी पंजतन का गदा

इस घराने का जबसे में नौकर बना
सबसे अच्छी मेरी नौकरी हो गयी


उनका मंगता हूँ जो मंगता नहीं होने देते
ये हवाले , मुझे रुस्वा नहीं होने देते

मेरे हर ऐब की करते हैं वो पर्दा पोषी
मेरे जुर्मों का तमाशा नहीं होने देते

उनका मंगता हूँ जो मंगता नहीं होने देते

अपने मंगतों की वो फेहरिश्त में रखते हैं सदा
मुझको मोहताज किसी का नहीं होने देते

उनका मंगता हूँ जो मंगता नहीं होने देते

है ये ईमान के आएंगे लहद में मेरी
अपने मंगतों का वो तनहा नहीं होने देते

उनका मंगता हूँ जो मंगता नहीं होने देते

नात पड़ता हूँ तो आती है महक तयबाह की
मेरे लहजे को वो मैला नहीं होने देते

उनका मंगता हूँ जो मंगता नहीं होने देते

आपकी याद से रहती है नमी आँखों में
मेरे दरियाओं का सहेरा नहीं होने देते

उनका मंगता हूँ जो मंगता नहीं होने देते

हुक्म करते हैं तो मिलते हैं ये मक़्ते शाकिर !
आप न चाहें तो मतला नहीं होने देते

उनका मंगता हूँ जो मंगता नहीं होने देते




Naat Khwan : 

Hafiz Tahir Qadri

Comments

Post a Comment

Popular Naat Lyrics

Humne Aankhon se dekha nahi hai Magar || Lyrics || Wo Muhammad Madine mein Maujud hai || हमने आँखों से देखा नहीं है मगर || ENG HINDI URDU

Allah humma Sallay Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || अल्लाहुम्म सल्ली अला सैय्यिदिना व मौलाना मुहम्मदिन

Wo Jiske liye Mehfile Konain saji hai || Wo Mera Nabi hai Lyrics || वो जिसके लिए महफिले कोनैन सजी है || वो मेरा नबी है || وو جسکے لئے محفل کَونَیْن سجی ہے || Lyrics

Fazle Rabbe paak se beta mera dulha bana || Madani Sehra || Lyrics || फ़ज़्ले रब्बे पाक से बेटा मेरा दूल्हा बना || मदनी सेहरा || Haifz Tahir Qadri

Shahe Do Alam Salam Assalam || शाहे दो आलम सलाम अस्सलाम || Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Tumne Shahe Jeelaan Muje Bagdaad bulaya Lyrics || तुमने शाहे जिलान मुझे बग़दाद बुलाया || Owais Raza Qadri

Bulalo Sarkar Tum Apne Dar Par || Salam Lyrics || बुलालो सरकार तुम अपने दर पर

Aye Khatme Rasool Makki Madani || अये खत्मे रसूल मक्की मदनी || Lyrics || Hafiz Uzair Akhtari

Madine ke Aaqa Salamun Alaik Lyrics || मदीने के आक़ा , सलामुन अलैक

Peerane peer mere shahe jilani Lyrics || पीराने पीर मेरे शाहे जिलानी

Facebook Page