Aye Khatme Rusool Makki Madani Lyrics || Hafiz Uzair Akhtari || Roman (Eng) & हिंदी (Hindi)


Roman (Eng) :


Aye Khatme Rusool Makki Madani
Konain mein Tumsa koi nahin
Aye Noore Mujassam Tuj jaisa
Mahboob Khuda ka koi nahin

Ausaaf to sab ne paaye hein
Par husn mein Tum sa koi nahin
Aadam se Janaabe Isa tak
Sarkar ke jaisa koi nahin

Tu hai Khursheede Risaalat Pyare
Chhup gaye hein Teri wila mein Taare
Ambiya aur hein sab Maah Paare
Tuj se hi Noor liya karte hein

Ausaf to sab ne paye hein
Par husn mein Tum sa koi nahin

Wo kanwaari paak Mariyam
Wo Nafakhto Feehi ka dam
Hai Ajab Nishaane Aazam
Magar Aamina ka Jaya
Tu hi Sabse Afzal aaya

Nabi to Saeel sabhi hein Aala
Hein rutbe sabke bulando baala
Magar jo aakhir mein Aamena ka
Wo Laal aaya Kamaal aaya

Ausaf to sab ne paye hein
Par husn mein Tum sa koi nahin
Aadam se Janaabe Isa tak
Sarkar ke jaisa koi nahin

Chashme Rehmat ba-kusha Soo-e-manandaze Nazar
Aye Quraishi Lakabo Hashimio Muttalabbi

Jis Taraf uth gayi dam mein dam aa gaya
Us Nigaahe Inaayat pe Lakhon Salam

Ho Jaaye agar ek Chashme Karam
Mahshar mein Hamaari laaj rahe
Aye Shaaf-e-Mehshar Tere Siwa
Bakhshish ka sila koi nahin

Khairat Muhammad se pa kar
Kis Shaan se kehte hein Mangte
Dukhiyon pe Karam karne wala
Sarkar se acchha koi nahin

Aye Khatme Rusool Makki Madani
Konain mein Tumsa koi nahin
Aye Noore Mujassam Tuj jaisa
Mahboob Khuda ka koi nahin




हिंदी (Hindi) :


अये खत्मे रसूल मक्की मदनी
कौनैन में तुमसा कोई नहीं
अये नूरे मुजस्सम तुज जैसा
महबूब खुदा का कोई नहीं

औसाफ़ तो सब ने पाए हैं
पर हुस्न में तुमसा कोई नहीं
आदम से जनाबे इसा तक
सरकार के जैसा कोई नहीं

तू है ख़ुर्शीदे रिसालत प्यारे
छुप गए हैं तेरी विला में तारे
अम्बिया और हैं सब माह पारे
तुज से ही नूर लिया करते हैं

औसाफ़ तो सब ने पाए हैं
पर हुस्न में तुमसा कोई नहीं

वो कंवारी पाक मरियम
वो नाफखतो फ़ीहि का दम
है अजब निशाने आज़म
मगर आमेना का जाया
तूही सब से अफ़ज़ल आया

नबी तो साईल हैं सब से आला
हैं रुतबे सबके बुलंदो बाला
मगर जो आखिर में आमेना का
वो लाल आया कमाल आया

औसाफ़ तो सब ने पाए हैं
पर हुस्न में तुमसा कोई नहीं
आदम से जनाबे इसा तक
सरकार के जैसा कोई नहीं

चश्मे रहमत बा-कुशा सू-इ-मानंदाज़े नज़र
अये कुरैशी लकबो हशामिओ मुत्तलिबी

जिस तरफ उठ गयी, दम में दम आ गया
उस निगाहे इनायत पे लाखों सलाम

हो जाए अगर एक चश्मे करम
महशर में हमारी लाज रहे
अये शाफ़ा-इ-महेशर तेरे सिवा
बख्शीश का सिला कोई नहीं

खैरात मुहम्मद से पा कर
किस शान से कहते हैं मंगते
दुखियों पे करम करने वाला
सरकार से अच्छा कोई नहीं

अये खत्मे रसूल मक्की मदनी
कौनैन में तुमसा कोई नहीं
अये नूरे मुजस्सम तुज जैसा
महबूब खुदा का कोई नहीं


Comments

Facebook Page

Followers

Popular Naat Lyrics

Wo jiske liye Mehfile Konain saji hai Lyrics || Roman(Eng) and Hindi(हिंदी)

Shahe Do Aalam Salaam Assalaam Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Allahumma Salle Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || Roman (Eng) & हिंदी (Hindi)