Jaliyon par Nigahen Jami hai || Lyrics || जालियों पर निगाहें जमी हैं || Hafiz Tahir Qadri



Roman(ENG):


Faslon ko Khudaara Mita do
Rukh se Parda ab Apne hata do

Apna Jalwa Isi mein dikha do
Jaaliyon par Nigaahein Jami hein

Ek Mujrim siyaakar hun Mein
Har Khata ka Sazaawar hun Mein

Mere Chaaron Taraf hein Andhera
Roshni ka talabgar hun Mein

Ek Diya hi Samaj kar Jala do
Jaliyon par Nigahein Jami hein

Faslon ko Khudara Mita do
Jaiyon par Nigahein Jami hein


Ya Shaikh Muhiyuddin Ya Maulana Muhiyuddin
Ya Makhdum Muhiyuddin Ya Darwesh Muhiyuddin
Ya Khwaja Muhiyuddin Ya Sultaan Muhiyuddin
Ya Shah Muhiyuddin Ya Gaus Muhiyuddin
Ya Qutub Muhiyuddin
Ya Saiyad-us-Sadaat Abdul Qadir Muhiyuddin
 
Wajd mein aayega Saara Aalam
Ham Pukareinge Ya Gause Aazam

Wo nikal aayeinge Jaliyon se
Aur Qadmon mein gir jayeinge Ham

Fir Kahenge ke bigdi banado 
Jaaliyon par Nigahein Jami hein

Faslon ko Khudara Mita do
Jaaliyon par Nigaahein Jami hein


Al Madad Ya Gaus Al Madad Ya Gaus

Gausul Aazam ho Gausul Wara ho
Noor ho Noore Salle Ala ho

Kya bayaan Aapka Martaba ho
Dastagir Aur Mushkil kusha ho

Aaj Deedaar Apna kara do
Jaaliyon par Nigaahein Jami hein

Faslon ko Khudara Mita do
Jaaliyon par Nigaahein Jami hein


Al Madad Ya Gaus Al Madad Ya Gaus

Sun rahe hein Wo Fariyaad Meri
Khaak hogi na barbaad Meri

Mein kahin bhi marun Shaahe Jilaan
Rooh Pahunchegi Bagdaad Meri

Mujko Parwaaz ke Par Lagaado
Jaaliyon par Nigaahein Jami hein

Faslon ko Khudara Mita do
Jaaliyon par Nigaahein Jami hein


Al Madad Ya Gaus Al Madad Ya Gaus

Ya Shaikh Muhiyuddin Ya Maulana Muhiyuddin
Ya Makhdum Muhiyuddin Ya Darwesh Muhiyuddin
Ya Khwaja Muhiyuddin Ya Sultaan Muhiyuddin
Ya Shah Muhiyuddin Ya Gaus Muhiyuddin
Ya Qutub Muhiyuddin


Har Wali Aapke Zere Paa hai
Har Ada Mustafa ki Ada hai

Aapne Deen Zinda kiya hai
Dubton ko Sahaara diya hai

Meri Kashti Kinaare lagaado
Jaaliyon par Nigaahein Jami hein

Faslon ko Khudara Mita do
Jaaliyon par Nigaahein Jami hein


Al Madad Ya Gaus Al Madad Ya Gaus

Fikr dekho Khayaalat dekho
Ye Akeedat Ye Jazbaat dekho

Mein hun Kya Meri Aukaat dekho
Saamne Kiski hai Zaat dekho

Aye Adeeb Apne Sar ko jukaalo
Jaaliyon par Nigaahein Jami hein

Faslon ko Khudara Mita do
Jaaliyon par Nigaahein Jami hein


Al Madad Ya Gaus Al Madad Ya Gaus

Ya Shaikh Muhiyuddin Ya Maulana Muhiyuddin
Ya Makhdum Muhiyuddin Ya Darwesh Muhiyuddin
Ya Khwaja Muhiyuddin Ya Sultaan Muhiyuddin
Ya Shah Muhiyuddin Ya Gaus Muhiyuddin
Ya Qutub Muhiyuddin



हिंदी(HINDI):


फासलों को खुदारा मिटा दो
रुख से पर्दा अब अपने उठा दो

अपना जलवा इसी में दिखा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

एक मुजरिम सियाकर हूँ में
हर खता का सज़ावार हूँ में

मेरे चारों तरफ है अँधेरा
रोशनी का तलबगार हूँ में

एक दिया ही समाज कर जला दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फासलों को खुदारा मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

या शैख़ मुहिय्यूद्दीन या मौलाना मुहिय्यूद्दीन
या मखदूम मुहिय्यूद्दीन या दरवेश मुहिय्यूद्दीन
या ख्वाजा मुहिय्यूद्दीन या सुल्तान मुहिय्यूद्दीन
या शाह मुहिय्यूद्दीन या गौस मुहिय्यूद्दीन
या क़ुतुब मुहिय्यूद्दीन
या सैय्यदु-स-सादात अब्दुल क़ादिर मुहिय्यूद्दीन

वज्द में आएगा सारा आलम
हम पुकारेंगे या गौसे आज़म

वो निकल आएंगे जालियों से
और क़दमों में गिर जाएंगे हम

फिर कहेंगे के बिगड़ी बना दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फासलों को खुदारा मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

अल मदद या गौस अल मदद या गौस 

ग़ौसुल आज़म हो ग़ौसुल वरा हो
नूर हो नूरे सल्ले अला हो

क्या बयां आपका मर्तबा हो
दस्तगीर और मुश्किल कुशा हो

आज दीदार अपने करा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फासलों को खुदारा मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

अल मदद या गौस अल मदद या गौस 

सुन रहे हैं वो फ़रियाद मेरी
ख़ाक होगी न बर्बाद मेरी

में कहीं भी मरुँ शाहे जिलान
रूह पहुंचेगी बग़दाद मेरी

मुज को परवाज़ के पर लगा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फासलों को खुदारा मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

अल मदद या गौस अल मदद या गौस 

या शैख़ मुहिय्यूद्दीन या मौलाना मुहिय्यूद्दीन
या मखदूम मुहिय्यूद्दीन या दरवेश मुहिय्यूद्दीन
या ख्वाजा मुहिय्यूद्दीन या सुल्तान मुहिय्यूद्दीन
या शाह मुहिय्यूद्दीन या गौस मुहिय्यूद्दीन
या क़ुतुब मुहिय्यूद्दीन

हर वली आपके ज़ेरे पा है
हर अदा मुस्तफा की अदा है

आपने दीं ज़िंदा किया है
डूबतों को सहारा दिया है

मेरी कश्ती किनारे लगा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फासलों को खुदारा मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

अल मदद या गौस अल मदद या गौस 

फ़िक्र देखो खयालात देखो
ये अकीदत ये जज़्बात देखो

में हूँ क्या मेरी औकात देखो
सामने किसकी है ज़ात देखो

अये अदीब अपने सर को जुकाओ
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फासलों को खुदारा मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

अल मदद या गौस अल मदद या गौस 

या शैख़ मुहिय्यूद्दीन या मौलाना मुहिय्यूद्दीन
या मखदूम मुहिय्यूद्दीन या दरवेश मुहिय्यूद्दीन
या ख्वाजा मुहिय्यूद्दीन या सुल्तान मुहिय्यूद्दीन
या शाह मुहिय्यूद्दीन या गौस मुहिय्यूद्दीन
या क़ुतुब मुहिय्यूद्दीन



Naat Khwan :

Comments

Popular Naat Lyrics

Humne Aankhon se dekha nahi hai Magar || Lyrics || Wo Muhammad Madine mein Maujud hai || हमने आँखों से देखा नहीं है मगर || ENG HINDI URDU

Wo Jiske liye Mehfile Konain saji hai || Wo Mera Nabi hai Lyrics || वो जिसके लिए महफिले कोनैन सजी है || वो मेरा नबी है || وو جسکے لئے محفل کَونَیْن سجی ہے || Lyrics

Allah humma Sallay Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || अल्लाहुम्म सल्ली अला सैय्यिदिना व मौलाना मुहम्मदिन || ENG HINDI URDU

Fazle Rabbe paak se beta mera dulha bana || Madani Sehra || Lyrics || फ़ज़्ले रब्बे पाक से बेटा मेरा दूल्हा बना || मदनी सेहरा || Haifz Tahir Qadri

Shahe Do Alam Salam Assalam || शाहे दो आलम सलाम अस्सलाम || شاہِ دو عالم سلام اَلسَّلام || Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Aye Khatme Rasool Makki Madani || अये खत्मे रसूल मक्की मदनी || Lyrics || Hafiz Uzair Akhtari

Madine ke Aaqa Salamun Alaik Lyrics || मदीने के आक़ा , सलामुन अलैक

Bulalo Sarkar Tum Apne Dar Par || Salam Lyrics || बुलालो सरकार तुम अपने दर पर

Apne Malik ka Main Naam lekar Lyrics || अपने मालिक का में नाम लेकर || Roman(Eng) & हिंदी(Hindi) & اردو(Urdu)

Bigdi ke banaane mein kyun dair lagi khwaaja Lyrics in roman(Eng) & Hindi(हिंदी)

Facebook Page