Muhammad Mustafa aye Bahar andar bahar aayi Lyrics || मुहम्मद मुस्तफा आये बहार अंदर बहार आयी || Roman(ENG) & हिंदी (HINDI)


Roman(ENG):


Muhammad Mustafa aaye bahar andar bahar aayi
(Muhammad Mustafa aaye baharon par bahar aayi
Zamin ko chumne Jannat se khushbu baar baar aayi

Janaabe Aamena ka chand jab chamka zamaane mein
Qamar ki chandani qadmon pe hone ko nisaar aayi

Muhammad Mustafa aaye bahar andar bahar aayi
Zamin ko chumne Jannat se khushbu baar baar aayi


Halima Do jahaan qurban hon Tere Muqaddar par
Tere kacche se Ghar mein Rahmate Parwardigar aayi

Muhammad Mustafa aaye bahar andar bahar aayi
Zamin ko chumne Jannat se khushbu baar baar aayi


Badi maayus thi Daayi Halima jab gayi Makke
Magar aayi to lekar Do Jahaan ka Tajdaar aayi

Muhammad Mustafa aaye bahar andar bahar aayi
Zamin ko chumne Jannat se khushbu baar baar aayi


Jabi to hai mahek utthi ye Aalam ki faza saari
Hai gaisu chum-kar unke Nasime Khushgawaar aayi

Muhammad Mustafa aaye bahar andar bahar aayi
Zamin ko chumne Jannat se khushbu baar baar aayi

Rabiun-Noor ki sub-h khabar faili ye Makke mein
Ke Rahmat Do Jahanon ki hai Abdullah ke Ghar aayi

Muhammad Mustafa aaye bahar andar bahar aayi
Zamin ko chumne Jannat ki khushbu baar baar aayi

Milade Mustafa Mein kyun manaun na Zaheer Unka
Ke Jinke aane se Duniya andheron se nikal aayi

Muhammad Mustafa aaye bahar andar bahar aayi
Zamin ko chumne Jannat ki khushbu baar baar aayi

Wo aaye to manaadi ho gayi Aqsa zamaane mein
Wo aaye to manaadi ho gayi Saayim zamaane mein
Bahaar aayi Bahaar aayi Madine mein bahaar aayi

Muhammad Mustafa aaye bahar andar bahar aayi
Zamin ko chumne Jannat ki khushbu baar baar aayi


हिंदी (HINDI):


मुहम्मद मुस्तफा आये बहार अंदर बहार आयी
मुहम्मद मुस्तफा आये बहारों पर बहार आयी
ज़मीं को चूमने जन्नत से खुश्बु बार बार आयी 

जनाबे आमेना का चाँद जब चमका ज़माने में
कमर की चांदनी क़दमों पे होने को निसार आयी

मुहम्मद मुस्तफा आये बहार अंदर बहार आयी
ज़मीं को चूमने जन्नत से खुश्बु बार बार आयी 

हलीमा दो जहां क़ुर्बान हों तेरे मुक़द्दर पर
तेरे कच्चे से घर में रेहमते परवरदिगार आयी

मुहम्मद मुस्तफा आये बहार अंदर बहार आयी
ज़मीं को चूमने जन्नत से खुश्बु बार बार आयी

बड़ी मायूस थी दायी हलीमा जब गयी मक्के
मगर आयी तो लेके दो जहां का ताजदार आयी

मुहम्मद मुस्तफा आये बहार अंदर बहार आयी
ज़मीं को चूमने जन्नत से खुश्बु बार बार आयी

जबी तो है महक उठी ये आलम की फ़ज़ा सारी
है गेसू चूमकर उनके नसीमे खुशगवार आयी

मुहम्मद मुस्तफा आये बहार अंदर बहार आयी
ज़मीं को चूमने जन्नत से खुश्बु बार बार आयी

रबिउन्नूर की सुब्ह खबर फैली ये मक्के में 
के रहमत दो जहानों की है अब्दुल्लाह के घर आयी 

मुहम्मद मुस्तफा आये बहार अंदर बहार आयी
ज़मीं को चूमने जन्नत से खुश्बु बार बार आयी

मिलादे मुस्तफा में क्यों मनाउं ना ज़हीर उनका 
के जिनके आने से दुनिया अंधेरों से निकल आयी 

मुहम्मद मुस्तफा आये बहार अंदर बहार आयी
ज़मीं को चूमने जन्नत से खुश्बु बार बार आयी

वो आये तो मनादि हो गयी अक़्सा ज़माने में
वो आये तो मनादि हो गयी साईम ज़माने में
बहार आयी बहार आयी मदीने में बहार आयी

मुहम्मद मुस्तफा आये बहार अंदर बहार आयी
ज़मीं को चूमने जन्नत से खुश्बु बार बार आयी




Comments

Post a Comment

Popular Naat Lyrics

Humne Aankhon se dekha nahi hai Magar || Lyrics || Wo Muhammad Madine mein Maujud hai || हमने आँखों से देखा नहीं है मगर || ENG HINDI URDU

Allah humma Sallay Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || अल्लाहुम्म सल्ली अला सैय्यिदिना व मौलाना मुहम्मदिन || ENG HINDI URDU

Fazle Rabbe paak se beta mera dulha bana || Madani Sehra || Lyrics || फ़ज़्ले रब्बे पाक से बेटा मेरा दूल्हा बना || मदनी सेहरा || Haifz Tahir Qadri

Wo Jiske liye Mehfile Konain saji hai || Wo Mera Nabi hai Lyrics || वो जिसके लिए महफिले कोनैन सजी है || वो मेरा नबी है || وو جسکے لئے محفل کَونَیْن سجی ہے || Lyrics

Shahe Do Alam Salam Assalam || शाहे दो आलम सलाम अस्सलाम || شاہِ دو عالم سلام اَلسَّلام || Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Bulalo Sarkar Tum Apne Dar Par || Salam Lyrics || बुलालो सरकार तुम अपने दर पर

Tumne Shahe Jeelaan Muje Bagdaad bulaya Lyrics || तुमने शाहे जिलान मुझे बग़दाद बुलाया || Owais Raza Qadri

Madine ke Aaqa Salamun Alaik Lyrics || मदीने के आक़ा , सलामुन अलैक

Aye Khatme Rasool Makki Madani || अये खत्मे रसूल मक्की मदनी || Lyrics || Hafiz Uzair Akhtari

Apne Malik ka Main Naam lekar Lyrics || अपने मालिक का में नाम लेकर || Roman(Eng) & हिंदी(Hindi) & اردو(Urdu)

Facebook Page