Dare Nabi Par Ye Umar Beetay Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa || दरे नबी पर ये उम्र बीते हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा


Roman(ENG):


Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa
Madine wale kahein Makaami Ho Unke Dar pe Qayaam Aisa

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa

Bilaal Tuj par nisaar jaaun, Ke Khud Nabi ne Tuje kharida
Naseeb ho to Naseeb Aesa, Gulaam ho to Gulaam Aisa

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa

Namaaz Aqsa mein jab padaaee, To Ambiya aur Rusool Ye bole
Namaaz ho to Namaaz Aisi, Imaam ho to Imaam Aisa

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa

Labon pe Naame Nabi jab aaya, Gurez paa haadason ko paaya
Jo taal deta hai mushkilon ko, Mere Nabi ka hai Naam Aisa

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa

Muji ko dekho Wo betalab hi, Nawaazte jaa rahe hein paygam
Na koi Mera Amal hai Aisa, Na koi Mera hai Kaam Aisa

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa

Hein jitne aklon khirad ke daawe , Kab unke garde safar ko pahunche
Koi bhi ab tak samaj na paaya, Hai Mustafa ka makaam Aisa

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa

Husain Quraan ke hein Wo Qari, Jo noke neza pe bhi ye bole
Siwa Khuda ke na sar jukana, Diya jahaan ko payaam Aisa

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa

Mein Khalid Apne Nabi pe qurbaan, Hai jinka khulke Azeem Quraan
Hai Roshni jiski Do jahaan mein, Kahin hai Maahe tamaam Aisa

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa


Same Lyrics in different Style:

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa

Meri Jaan Madina, Dil ka Chain Madina
Aankhon ka Taara Madina, Sab ka Sahaara Madina

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa
Madine wale kahein Makaami Ho Unke Dar pe Qayaam Aisa

Namaaz Aqsa mein jab padaaee, To Ambiya aur Rusool Ye bole
Namaaz ho to Namaaz Aisi, Imaam ho to Imaam Aisa

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa
Madine wale kahein Makaami Ho Unke Dar pe Qayaam Aisa

Taybaah mein ho Mera Ghar, Aisa Karam ho Sarwar
Gumbad ko Jab bhi dekhun, Padlun Salaam Tum par

Bilaal Tuj par nisaar jaaun, Ke Khud Nabi ne Tuje kharida
Naseeb ho to Naseeb Aesa, Gulaam ho to Bilaal Jaisa

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa
Madine wale kahein Makaami Ho Unke Dar pe Qayaam Aisa

Labon pe Naame Nabi jab aaya, Gurez paa haadason ko paaya
Jo taal deta hai mushkilon ko, Mere Nabi ka hai Naam Aisa

Meri Bigdi banaane ko Nabi ka Naam kaafi hai
Hazaron gham mitaane ko Nabi ka Naam kaafi hai

Ghamon ki dhoop ho ya fir, Hawaaein tez chalti hon
Mere Is Aasiyaane ko Nabi ka Naam kaafi hai

Jo taal deta hai mushkilon ko, Mere Nabi ka hai Naam Aisa

Muji ko dekho Wo betalab hi, Nawaazte jaa rahe hein paygam
Na koi Mera Amal hai Aisa, Na koi Mera hai Kaam Aisa

Na koi Amal hai Sunaane ke qaabil
Na Munh hai Tumhare dikhane ke qaabil

Lagaate ho Usko bhi Seene se Aaqa
Jo hota nahin Munh lagaane ke qaabil

Na koi Mera Amal hai Aisa, Na koi Mera hai Kaam Aisa

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa
Madine wale kahein Makaami Ho Unke Dar pe Qayaam Aisa

Mein Khalid Apne Nabi pe qurbaan, Hai jinka khulke Azeem Quraan
Hai Roshni jiski Do jahaan mein, Kahin hai Maahe tamaam Aisa

Dare Nabi Par Ye Umar Beete Ho Hampe Lutfe Dawaam Aisa
Madine wale kahein Makaami Ho Unke Dar pe Qayaam Aisa



हिंदी (HINDI):


दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा
मदीने वाले कहें मकामी, हो उनके दर पर क़याम ऐसा

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा

बिलाल तुझपर निसार जाऊं, के खुद नबी ने तुजे ख़रीदा
नसीब हो तो नसीब ऐसा, गुलाम हो तो गुलाम ऐसा

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा

नमाज़ अक़्सा में जब पड़ाई, तो अम्बिया और रुसूल ये बोले
नमाज़ हो तो नमाज़ ऐसी, इमाम हो तो इमाम ऐसा

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा

लबों पे नामे नबी जब आया, दूर रेज़ पा हादसों को पाया
जो टाल देता है मुश्किलों को, मेरे नबी का है नाम ऐसा

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा

हैं जितने अक्लो ख़िरद के दावे, कब उनके गर्दे सफर को पहुंचे
कोई भी अब तक समाज न पाया, है मुस्तफा का मकाम ऐसा

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा

हुसैन क़ुरआन के है वो कारी, जो नोके नेज़ा पे भी ये बोले
सिवा खुदा के न सर जुकाना, दिया जहां को पयाम ऐसा

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा

मुजी को देखो वो बेतलब ही, नवाज़ते जा रहे हैं पैगम
न कोई मेरा अमल है ऐसा, न कोई मेरा है काम ऐसा

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा

में खालिद अपने नबी पे क़ुर्बान, है जिनका खुलके अज़ीम क़ुरआन
है रौशनी जिसकी दो जहां में, यही है माहे तमाम ऐसा

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा


यही नात अलग अंदाज़ में:

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा

मेरी जान मदीना, दिल का चैन मदीना
आँखों का तारा मदीना, सब का सहारा मदीना

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा
मदीने वाले कहें मकामी, हो उनके दर पर क़याम ऐसा

नमाज़ अक़्सा में जब पड़ाई, तो अम्बिया और रुसूल ये बोले
नमाज़ हो तो नमाज़ ऐसी, इमाम हो तो इमाम ऐसा

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा
मदीने वाले कहें मकामी, हो उनके दर पर क़याम ऐसा

तयबाह में हो मेरा घर, ऐसा करम हो सरवर
गुम्बद को जब भी देखूं, पड़लूं सलाम तुम पर

बिलाल तुझपर निसार जाऊं, के खुद नबी ने तुजे ख़रीदा
नसीब हो तो नसीब ऐसा, गुलाम हो तो गुलाम ऐसा

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा
मदीने वाले कहें मकामी, हो उनके दर पर क़याम ऐसा

लबों पे नामे नबी जब आया, दूर रेज़ पा हादसों को पाया
जो टाल देता है मुश्किलों को, मेरे नबी का है नाम ऐसा

मेरी बिगड़ी को बनाने को नबी का नाम काफी है
हज़ारों ग़म मिटाने को, नबी का नाम काफी है

ग़मों की धुप हो या फिर, हवाएं तेज़ चलती हों
मेरे इस आसियाने को नबी का नाम काफी है

जो टाल देता है मुश्किलों को, मेरे नबी का है नाम ऐसा

मुजी को देखो वो बेतलब ही, नवाज़ते जा रहे हैं पैगम
न कोई मेरा अमल है ऐसा, न कोई मेरा है काम ऐसा

न कोई अमल है सुनाने के क़ाबिल
न मुंह है तुम्हारे दिखने के क़ाबिल

लगाते हो उसको भी सीने से आक़ा
जो होता नहीं मुंह लगाने के क़ाबिल

न कोई मेरा अमल है ऐसा, न कोई मेरा है काम ऐसा

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा
मदीने वाले कहें मकामी, हो उनके दर पर क़याम ऐसा

में खालिद अपने नबी पे क़ुर्बान, है जिनका खुलके अज़ीम क़ुरआन
है रौशनी जिसकी दो जहां में, यही है माहे तमाम ऐसा

दरे नबी पर ये उम्र बीते, हो हमपे लुत्फे दवाम ऐसा
मदीने वाले कहें मकामी, हो उनके दर पर क़याम ऐसा








Comments

  1. Short to bekar hai sab aage piche hain

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular Naat Lyrics

Humne Aankhon se dekha nahi hai Magar || Lyrics || Wo Muhammad Madine mein Maujud hai || हमने आँखों से देखा नहीं है मगर || ENG HINDI URDU

Wo Jiske liye Mehfile Konain saji hai || Wo Mera Nabi hai Lyrics || वो जिसके लिए महफिले कोनैन सजी है || वो मेरा नबी है || وو جسکے لئے محفل کَونَیْن سجی ہے || Lyrics

Allah humma Sallay Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || अल्लाहुम्म सल्ली अला सैय्यिदिना व मौलाना मुहम्मदिन || ENG HINDI URDU

Fazle Rabbe paak se beta mera dulha bana || Madani Sehra || Lyrics || फ़ज़्ले रब्बे पाक से बेटा मेरा दूल्हा बना || मदनी सेहरा || Haifz Tahir Qadri

Shahe Do Alam Salam Assalam || शाहे दो आलम सलाम अस्सलाम || شاہِ دو عالم سلام اَلسَّلام || Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Aye Khatme Rasool Makki Madani || अये खत्मे रसूल मक्की मदनी || Lyrics || Hafiz Uzair Akhtari

Madine ke Aaqa Salamun Alaik Lyrics || मदीने के आक़ा , सलामुन अलैक

Bulalo Sarkar Tum Apne Dar Par || Salam Lyrics || बुलालो सरकार तुम अपने दर पर

Bigdi ke banaane mein kyun dair lagi khwaaja Lyrics in roman(Eng) & Hindi(हिंदी)

Apne Malik ka Main Naam lekar Lyrics || अपने मालिक का में नाम लेकर || Roman(Eng) & हिंदी(Hindi) & اردو(Urdu)

Facebook Page