Maahe Ramzaan aane waala hai Lyrics || Junaid Sheikh Attari || Ramzan Special || Roman(Eng) & हिंदी


Roman (Eng) : 


Khuda ki hai Inaayat Maahe Ramzaan aane waala hai
Hui Maula ki Rahmat Maahe Ramzaan aane waala hai

Maahe Ramzaan, Maahe Gufraan, Maahe Subhaan, Maahe Rahmaan
Khuleinge Baabe Jannat Maahe Ramzaan aane waala hai

Masjidein hongi fir aabaad, Shaitaan jal mare naashaad
Mile Momeen ko Farhat Maahe Ramzaan aane waala hai

Dile Magmoom fir ek baar, Khushiyon se hua Sarshaar
Hui haasil Musarrat Maahe Ramzaan aane waala hai

Khushi se Jhoomta hai Dil, Machi hai Qalb mein halchal
Mile Aashiq ko farhat Maahe Ramzaan aane waala hai

Taraawih aur Namaazon mein kami hogi na Rozon mein
Karo mil kar ye Niyyat Maahe Ramzaan aane waala hai

Ilaahi Aafiyat dena Salaamat Dil ataa karna
Ataa kar de Tu Sehat Maahe Ramzaan aane waala hai

Mein Ramzaanul Mubarak Paaun, Roze Saare rakh paaun
Tu rakh Zindaa Salaamat Maahe Ramzaan aane waala hai

Nabi ke Ishq mein roun, Madine ke liye tadpun
Khuda de Sozo Riqqat Maahe Ramzaan aane waala hai

Rahun qaayim Mein Tauba par, Khudaaya Fazl Aesa kar
Gunaahon se de Nafrat Maahe Ramzaan aane waala hai

Khuda Aesi Inaayat kar, Mein kaanpu khauf se thar thar
Ho Isyaan se hifaazat Maahe Ramzaan aane waala hai

Ibaadat mein Riyaazat mein Duroodon mein Tilaawat mein
Ilaahi de de Lazzat Maahe Ramzaan aane waala hai

Muhammad Mustafa ka Waasita Tu bakhsh de Maula
Ataa kar Baage Jannat Maahe Ramzaan aane waala hai

Khuda Attar ki bakhshish Tu farmaan de bila purshish
Tufaile Aala Hazrat Maahe Ramzaan aane waala hai


हिंदी:

खुदा की है इनायत माहे रमज़ां आने वाला है
हुई मौला की रेहमत माहे रमज़ां आने वाला है

माहे रमज़ान, माहे गुफरान, माहे सुब्हान, माहे रहमान
खुलेंगे बाबे जन्नत माहे रमज़ां आने वाला है

मस्जिदें फिर होंगी आबाद, शैतान जल मरे नाशाद
मिले मोमीन को फरहत माहे रमज़ां आने वाला है

दिल मगमूम फिर एक बार, खुशियों से हुआ सरशार
हुई हासिल मुसर्रत माहे रमज़ां आने वाला है

ख़ुशी से जुंटा है दिल, मची है क़ल्ब में हलचल
मिले आशिक़ को फरहत माहे रमज़ां आने वाला है

तरावीह और नमाज़ों में कमी होगी ना रोज़ों में
करो मिल कर ये निय्यत माहे रमज़ां आने वाला है

इलाही ! आफ़ियत देना , सलामत दिल अता करना
अता कर दे तू सेहत माहे रमज़ां आने वाला है

में रमज़ानुल मुबारक पाऊं, रोज़े सारे रख पाऊं
तू रख ज़िंदा सलामत माहे रमज़ां आने वाला है

नबी के इश्क़ में रोऊँ, मदीने के लिए तड़पुं
खुदा दे सोज़ो रिक़्क़त माहे रमज़ां आने वाला है

रहूं क़ाइम में तौबा पर, खुदाया फ़ज़ल ऐसा कर
गुनाहों से दे नफरत माहे रमज़ां आने वाला है

खुदा ऐसी इनायत कर में कंपू खौफ से थर थर
हो इस्यां से हिफाज़त माहे रमज़ां आने वाला है

इबादत में रियाज़त में दुरूदों में तिलावत में
इलाही ! दे दे लज़्ज़त माहे रमज़ां आने वाला है

मुहम्मद मुस्तफा का वास्ता तू बख्श दे मौला
अता कर बागे जन्नत माहे रमज़ां आने वाला है

खुदा ! अत्तार की बख्शीश तू फ़रमाँ दे बिला पुर्सिश
तुफ़ैले आला हज़रत माहे रमज़ां आने वाला है

Comments

Facebook Page

Followers

Popular Naat Lyrics

Wo jiske liye Mehfile Konain saji hai Lyrics || Roman(Eng) and Hindi(हिंदी)

Shahe Do Aalam Salaam Assalaam Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Allahumma Salle Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || Roman (Eng) & हिंदी (Hindi)