Andhere mein Dil ke Charage Muhabbat Lyrics || Hafiz Tahir Qadri || Roman (Eng) & हिंदी (Hindi)


Roman (Eng) :


Andhere mein dil ke Charage Muhabbat
Ye kis ne jalaaya Sawere Sawere
Liya jab se Meine Ye Naame Muhammad
Bada lutf aaya Sawere Sawere

Aqidat ki manzil ka bas raaz ye hai
Isha ke wuzu se ada ho Sahar bhi
Ibaadat ka sauda andhere andhere
Munaafa kamaaya Sawere Sawere

Khuda ki qasam Ye hakeekat hai sehra
Ke be-noor aankhon mein bhi noor chamka
Tere sabz gumbad ko Suraj ki kirnon
Ne jab jagmagaaya Sawere Sawere

Ibaadat kiye jaa Namazein pade ja
Shabo Roz sajdon pe Sajde kiye ja
Ibaadat Usi ki Namazien Usi ki
Jise Panjatan ka garaana mila hai

Madine ke Jalwe Madine ki raatein
Hamein Aye Khudaya dikha jaldi jaldi
Tadapte hein Din raat jo huzuri ko
Unhein Aye Khudaaya bula jaldi jaldi

Khayale Madina mein nind aa gayi jab
Karaar aa gaya be karari ko Meri
Kiye sabz gumbad ke Meine nazaare
Bada lutf aaya Sawere Sawere

Wo Roze ka manzar wo Mehrabo Mimbar
Wo jannat ki kyari badi pyari pyari
Jahaan par lagi Mere aaqa ki taliyaan
Wo galiyan Hamein bhi dikha jaldi jaldi

Jinhein sunke karte the Iftaro Sehri
Sabhi Maahe Ramzaan mein Usshake Nabawi
Jinhe sunke hota hai Ek kayf taari
Hamein wo Azaanein suna jaldi jaldi

Qayamat ka ek din mu-ayyan hai lekin
Hamaare liye har nafas hai qayamat
Madine se ham jaan nisaron ki doori
Qayamat nahin hai to fir aur kya hai

Kahaan mein kahaan Ye madine ki galiyan
Ye Qismat nahin hai to fir aur kya hai
Jahaan Roza e Paake Khairul wara hai
Wo jannat nahin hai to fir aur kya hai

Muhammad ki azmat ko kya puchhte ho
Wo Sahibe kaaba kausayn thehre
Sare Hashr aaqa ki mehmaan nawazi
Ye azmat nahin hai to fir aur kya hai


हिंदी (Hindi) :


अँधेरे में दिल के चरागे महोब्बत
ये किसने जलाया सवेरे सवेरे
लिया जब से मैंने ये नाम मुहम्मद
बड़ा लुत्फ़ आया सवेरे सवेरे

अक़ीदत की मंज़िल का बस राज़ ये है
ईशा के वुज़ू से अदा हो सहर भी
इबादत का सौदा अँधेरे अँधेरे
मुनाफा कमाया सवेरे सवेरे

खुदा की क़सम ये हकीकत है सहेरा
के बेनूर आँखों में भी नूर चमका
तेरे सब्ज़ गुम्बद को सूरज की किरणों
ने जब जगमगाया सवेरे सवेरे

इबादत किये जा, नमाज़ें पड़े जा
शबो रोज़ सजदों पे सजदे किये जा
इबादत उसी की , नमाज़ें उसी की
जिसे पंजतन का गराना मिला है

मदीने के जलवे मदीने की रातें
हमें अये खुदाया दिखा जल्दी जल्दी
तड़पते हैं दिन रात जो हुज़ूरी को
उन्हें अये खुदाया बुला जल्दी जल्दी

ख़याले मदीना में नींद आ गयी जब
क़रार आ गया बेकरारी को मेरी
किये सब्ज़ गुम्बद के मैंने नज़ारे
बड़ा लुत्फ़ आया सवेरे सवेरे

वो रोज़े का मंज़र वो मेहरबो मिम्बर
वो जन्नत की क्यारी बड़ी प्यारी प्यारी
जहाँ पर लगी मेरे आक़ा की तलियाँ
वो गलियां हमें भी दिखा जल्दी जल्दी

जिन्हें सुनके करते थे इफ्तारो सहरी
सभी माहे रमज़ान में उषाके नबवी
जिन्हें सुनके होता है एक कैफ तारी
हमें वो अज़ानें सुना जल्दी जल्दी

क़यामत का एक दिन मुअय्यन है लेकिन
हमारे लिए हर नफ़स है क़यामत
मदीने से हम जां निसारों की दूरी
क़यामत नहीं है तो फिर और क्या है

कहाँ में कहाँ ये मदीने की गलियां
ये क़िस्मत नहीं है तो फिर और क्या है
जहाँ रोज़ा-इ-पाके खैरुल वरा है
वो जन्नत नहीं है तो फिर और क्या है

मुहम्मद की अज़मत को क्या पूछते हो
के वो साहिबे काबा कौसेन ठहरे
सरे हश्र आक़ा की मेहमान नवाज़ी
ये अज़मत नहीं है तो फिर और क्या है

Naat Khwan : 

Hafiz Tahir Qadri

Comments

Post a Comment

Facebook Page

Followers

Popular Naat Lyrics

Wo jiske liye Mehfile Konain saji hai Lyrics || Roman(Eng) and Hindi(हिंदी)

Shahe Do Aalam Salaam Assalaam Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Allahumma Salle Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || Roman (Eng) & हिंदी (Hindi)