Mein Qaum ki beti hun Mein Pardaa karti hun Lyrics in Roman(Eng) & हिंदी

Roman(Eng) : 

Islaam ki beti kabhi gayrat par soda nahin karti
Jab Uski Izzat aur aabru ko lalkaara jaaye
To Wo ye sadaa buland karti hai !

Mein Qaum ki beti hun Mein Pardaa karti hun
Bhagwaa ki nahin parwaah , Allah se darti hun

Allahu Akbar Allahu Akbar Allahu Akbar Allahu Akbar 

Mein Qaum ki beti hun Mein Pardaa karti hun
Bhagwaa ki nahin parwaah , Allah se darti hun

Tum laakh daraaoge Mujko be-khauf Mein hoti jaaungi
Aankhon mein daalke Mein Aankhein Har baatil se takraaungi
Mein Umme Wahab ki Beti hun Zaynab ki Shujaa-at hai Mujh mein
Duniya ke sabhi Kuffar sunein Khola ki bhi himmat hai Mujh mein

Mein Qaum ki beti hun Mein Pardaa karti hun
Bhagwaa ki nahin parwaah , Allah se darti hun

Allahu Akbar Allahu Akbar Allahu Akbar Allahu Akbar  

Allah ki Itaa-at Pardaa hai , Sarkaar ki Chaahat Pardaa hai
Imaan ki Halaawat Pardaa hai , Be-Sharmee se nafrat Pardaa hai
Izzat ki hifaazat Pardaa hai , Aurat ki Sharaafat Pardaa hai
Islaam se Ulfat Pardaa hai , Zahraa ki hidaayat Pardaa hai

Mein Qaum ki beti hun Mein Pardaa karti hun
Bhagwaa ki nahin parwaah , Allah se darti hun

Allahu Akbar Allahu Akbar Allahu Akbar Allahu Akbar 

Mein Jaan to Apni de dungi , Chhodungi na hargiz Mein Pardaa
Shaytaan ke jo Chele hein Unhein , kar ke hi rahungi Mein Ruswaa
Islaam hi Sabse Afzal hai , Ye Saare Jahaan ko bataa dungi
Takbeer ke Naare se Aaseem , Duniya mein halchal machaa dungi

Mein Qaum ki beti hun Mein Pardaa karti hun
Bhagwaa ki nahin parwaah , Allah se darti hun

Allahu Akbar Allahu Akbar Allahu Akbar Allahu Akbar 


हिंदी :

इस्लाम की बेटी कभी गैरत पर सौदा नहीं करती
जब उसकी इज़्ज़त और आबरू को ललकारा जाए
तो वो ये सदा बुलंद करती है !


में क़ौम की बेटी हूँ , में पर्दा करती हूँ
भगवा की नहीं परवा , अल्लाह से डरती हूँ

अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर


में क़ौम की बेटी हूँ , में पर्दा करती हूँ
भगवा की नहीं परवा , अल्लाह से डरती हूँ


तुम लाख डराओगे मुझको बेख़ौफ़ में होती जाउंगी
आँखों में डालके में आँखें हर बातिल से टकराऊँगी
में उम्मे वहब की बेटी हूँ ज़ैनब की शुजाअत है मुझमें
दुनिया के सभी कुफ्फार सुनें खौला की भी हिम्मत है मुझमें

में क़ौम की बेटी हूँ , में पर्दा करती हूँ
भगवा की नहीं परवा , अल्लाह से डरती हूँ

अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर

अल्लाह की इताअत पर्दा है , सरकार की चाहत पर्दा है
इमां की हलावत पर्दा है , बे-शर्मी से नफरत पर्दा है
इज़्ज़त की हिफाज़त पर्दा है , औरत की शराफत पर्दा है
इस्लाम से उल्फत पर्दा है , ज़हरा की हिदायत पर्दा है

में क़ौम की बेटी हूँ , में पर्दा करती हूँ
भगवा की नहीं परवा , अल्लाह से डरती हूँ

अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर

में जान तो अपनी दे दूंगी , छोडूंगी न हरगिज़ में पर्दा
शैतान के जो चेले हैं उन्हें , कर के ही रहूंगी में रुस्वा
इस्लाम की सबसे अफ़ज़ल है , ये सारे जहाँ को बता दूंगी
तकबीर के नारे से आसीम , दुनिया में हलचल मचा दूंगी

में क़ौम की बेटी हूँ , में पर्दा करती हूँ
भगवा की नहीं परवा , अल्लाह से डरती हूँ

अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर

Comments

Facebook Page

Followers

Popular Naat Lyrics

Wo jiske liye Mehfile Konain saji hai Lyrics || Roman(Eng) and Hindi(हिंदी)

Shahe Do Aalam Salaam Assalaam Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Allahumma Salle Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || Roman (Eng) & हिंदी (Hindi)