Marhaba Bolo Marhaba Marhaba Full Lyrics || Owais Raza Qadri || Roman(ENG) & हिंदी (HINDI)



Roman(ENG):


Marhaba Bolo Marhaba Marhaba
Joom kar Bolo Marhaba Marhaba

Mominon Waqte adab hai Aamade Mehboobe Rabb hai
Jaa-e-Aadabo Tarab hai Aamade Shahe Arab hai

Marhaba Bolo Marhaba Marhaba
Joom kar Bolo Marhaba Marhaba

Gunche chathke Phool mehke , Shakhe gul par murg chehke
Joom jaao Tum bhi kehke , Aamade Shahe Arab hai

Marhaba Bolo Marhaba Marhaba
Joom kar Bolo Marhaba Marhaba

Khwahishe zulfe Nabi mein , Mast hein gul ki shameen mein
Joom kar aayeen naseemein , Aamade Shahe Arab hai

Marhaba Bolo Marhaba Marhaba
Joom kar Bolo Marhaba Marhaba

Baj rahe hein shaadiyane , But lage Kalmaa sunaane
Har Zabaan pe hein Taraane ,Aamade Shahe Arab hai

Marhaba Bolo Marhaba Marhaba
Joom kar Bolo Marhaba Marhaba

Abre Rehmat chha gaya hai , Kaabe pe janda gada hai
Baabe Rehmat aaj waan hai , Aamade Shahe Arab hai

Marhaba Bolo Marhaba Marhaba
Joom kar Bolo Marhaba Marhaba

Aamena Bibi ka jaaya , Barwi Taarikh aaya 
Sub-he Saadiq ne sunaaya, Salawa-Tullahi Alayk

Marhaba Bolo Marhaba Marhaba
Joom kar Bolo Marhaba Marhaba

Noor aa gaya Noor aa gaya
Haan Haq ka
Noor aa gaya Noor aa gaya

Sub-ha Tayba mein hui bant-ta hai baada Noor ka
Sadqa lene Noor ka aaya hai Taara Noor ka

Noor aa gaya Noor aa gaya
Haan Haq ka
Noor aa gaya Noor aa gaya

Mein gada Tu Badshah bharde piyaala Noor ka
Noor Din Duna Tera de daal Sadqa Noor ka

Noor aa gaya Noor aa gaya
Haan Haq ka
Noor aa gaya Noor aa gaya

Naariyon ka daur tha Dil jal raha tha Noor ka
Tumko dekha ho gaya thanda Kaleja Noor ka

Noor aa gaya Noor aa gaya
Haan Haq ka
Noor aa gaya Noor aa gaya

Teri Nasle Paak mein hai baccha baccha Noor ka
Tu hai Ayne Noor Tera sab Gharana Noor ka

Noor aa gaya Noor aa gaya
Haan Haq ka
Noor aa gaya Noor aa gaya

Aye Raza ye Ahmade Noori ka Faize Noor hai
Ho gayi Meri gazal pad kar Kaseeda Noor ka

Noor aa gaya Noor aa gaya
Haan Haq ka
Noor aa gaya Noor aa gaya

Marhaban Marhaban Ya Jaddal Husaini Marhaban
Marhaban Marhaban Ya Nooral Ayni Marhaban

Sarkar ki Aamad  Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Anwaar ki Aamad Marhaba
Manthaar ki Aamad Marhaba
Sab joom ke bolo Marhaba
Sarkar ki Aamad Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Huzur ki Aamad Marhaba
Purnoor ki Aamad Marhaba

Marhaban Marhaban Jaddal Husaini Marhaban
Marhaban Marhaban Ya Nooral Ayni Marhaban

Purnoor hai Zamana Sub-he Shabe Wilaadat
Parda utha hai Kiska Sub-he Shabe Wilaadat

Marhaban Marhaban Ya Jaddal Husaini Marhaban
Marhaban Marhaban Ya Nooral Ayni Marhaban

Dil jagmaga rahe hein Kismat chamak uthi hai
Faila naya ujaala Sub-he Shabe Wiladat

Marhaban Marhaban Ya Jaddal Husaini Marhaban
Marhaban Marhaban Ya Nooral Ayni Marhaban

Aayi nayi Hukumat sikka naya chalega
Aalam ne rang badla Sub-he Shabe Wiladat

Marhaban Marhaban Ya Jaddal Husaini Marhaban
Marhaban Marhaban Ya Nooral Ayni Marhaban

Roohul Ameen ne gaada Kaabe ki chhat pe janda
Ta-Arsh uda farera Sub-he Shabe Wiladat

Marhaban Marhaban Ya Jaddal Husaini Marhaban
Marhaban Marhaban Ya Nooral Ayni Marhaban

Sarkar ki Aamad  Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Anwaar ki Aamad Marhaba
Manthaar ki Aamad Marhaba
Sab joom ke bolo Marhaba
Sarkar ki Aamad Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Huzur ki Aamad Marhaba
Purnoor ki Aamad Marhaba

Marhaban Marhaban Ya Jaddal Husaini Marhaban
Marhaban Marhaban Ya Nooral Ayni Marhaban

Nausha banaao Unko Dulha banaao Unko
Hai Arsh tak ye shohra Sub-he Shabe Wiladat

Marhaban Marhaban Ya Jaddal Husaini Marhaban
Marhaban Marhaban Ya Nooral Ayni Marhaban

Shadi rachi hui hai bajte hein Shadiyaane
Dulha bana Wo Dulha Sub-he Shabe Wiladat

Marhaban Marhaban Ya Jaddal Husaini Marhaban
Marhaban Marhaban Ya Nooral Ayni Marhaban

Aamad ka shor sun kar gir aaye hein bhikari
Geire khade hein rasta Sub-he Shabe Wiladat

Marhaban Marhaban Ya Jaddal Husaini Marhaban
Marhaban Marhaban Ya Nooral Ayni Marhaban

Baanta hai Do Jahaan mein Tune Ziya ka baada
Dede Hasan ka hissa Sub-he Shabe Wiladat

Marhaban Marhaban Ya Jaddal Husaini Marhaban
Marhaban Marhaban Ya Nooral Ayni Marhaban

Sarkar ki Aamad  Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Anwaar ki Aamad Marhaba
Manthaar ki Aamad Marhaba
Sab joom ke bolo Marhaba
Sarkar ki Aamad Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Huzur ki Aamad Marhaba
Purnoor ki Aamad Marhaba

Marhaban Marhaban Ya Jaddal Husaini Marhaban
Marhaban Marhaban Ya Nooral Ayni Marhaban

Noor se Apne Sarware Aalam Duniya jagmagane Aaye
Gham ke maaron Dukhiyaaron ko Sine se lagaane Aaye

Noore Nigaahe Ambiya Mere Huzur Aa gaye
Shaano Nishaane Kibriya Mere Huzur Aa gaye

Noor se Apne Sarware Alam Duniya jagmagane Aaye

Nikhra hua hai Roohe Gul  Faili hui hai Boo-e-Gul
Banke Bahare Jaan-Fiza Mere Huzur Aa gaye

Noor se Apne Sarware Alam Duniya jagmagane Aaye

Ashkon se bhar ke Joliyan Aankhein bichhado Raah mein
Salle-Ala ki do Sada Mere Huzur Aa gaye

Noor se Apne Sarware Alam Duniya jagmagane Aaye

Sarkar ki Aamad  Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Anwaar ki Aamad Marhaba
Manthaar ki Aamad Marhaba
Sab joom ke bolo Marhaba
Sarkar ki Aamad Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Huzur ki Aamad Marhaba
Purnoor ki Aamad Marhaba

Ya Rasulallah  Ya Habiballah
Pukaro....
Ya Rasulallah  Ya Habiballah

Ya Rasulallah Tere Chaahne waalon ki khair
Sab Gulamon ka bhala ho Sab karein Tayba ki sair

Ya Rasulallah Ya Habiballah

Ya Rasulallah ke Naare se Ham ko pyar hai
Hamne ye Naara lagaya Apna beda paar hai

Sarkar ki Aamad  Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Anwaar ki Aamad Marhaba
Manthaar ki Aamad Marhaba
Sab joom ke bolo Marhaba
Sarkar ki Aamad Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Huzur ki Aamad Marhaba
Purnoor ki Aamad Marhaba

Ya Rasulallah  Ya Habiballah

Khuld mein hoga Hamara daakhila Is Shan se
Ya Rasulallah ka Naara lagaate jayenge

Ya Rasulallah Ya Habiballah

Rabbe Habli Ummati kehte hue paida hue
Haq ne farmaya ke bakhsha Assalatu Wassalam

Sarkar ki Aamad  Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Anwaar ki Aamad Marhaba
Manthaar ki Aamad Marhaba
Sab joom ke bolo Marhaba
Sarkar ki Aamad Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Huzur ki Aamad Marhaba
Purnoor ki Aamad Marhaba

Ya Rasulallah Ya Habiballah

Chand sa chamkaate chehraa Noor barsate hue
Aa gaye Badrudduja Ahlanwwa-Sahlan Marhaba

Aamena ke ghar mein Aaqa ki Wiladat ho gayi
Marhaba sad Marhaba Ahlanwwa-Sahlan Marhaba

Bayte Aqsa Baame Kaaba Bar Makaane Aamena
Nasb Parcham ho gaya Ahlanwwa-Sahlan Marhaba

Purnoor hai Zamana Sub-he Shabe Wiladat
Parda utha hai kiska Sub-he Shabe Wiladat

Din fir gaye Hamaare Sote Naseeb jaage
Khurshid hi Wo chamka Sub-he Shabe Wiladat

Wasle Bahaar aayi Shakle nikhaar aayi
Gulzaar hai Zamana Sub-he Shabe Wiladat

Baara Rabiul-Awwal Teri jalak ke Sadqe
Chamka diya nasiban Sub-he Shabe Wiladat

Teri chamak damak se Aalam jalak raha hai
Mere bhi bakht chamka Sub-he Shabe Wiladat

Baantaa hai Do jahaan mein Tune ziya ka bada
Dede Hasan ka hissa Sub-he Shabe Wiladat

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa

Eide Miladunnabi hai Dil bada Masroor hai
Eid Deewanon ki to Barah Rabi-unnoor hai

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa

Is taraf jo Noor hai to Us taraf bhi Noor hai
Zarra Zarra sab jahan ka Noor se ma-moor hai

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa

Gam ke Baadal chhat gaye aur gam ke maare joom uthe
Aa gaya Khushiyaan liye Maahe Rabi-unnoor hai

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa

Aamena Tujko Mubarak Shaah ke Milaad ho
Tera Aangan Noor banke Ghar ka Ghar sab Noor hai

Marhaba Marhaba Marhaba Ya Mustafa

Roohul Ameen ne gaada Kaabe ki chhat pe janda
Ta-Arsh uda farera Sub'he Shabe Wiladat

Bayte Aqsa Baame Kaaba Bar Makame Aamena
Nasb Parcham ho gaya Ahlanwwa-Sahlan Marhaba

Sarkar ki Aamad  Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Anwaar ki Aamad Marhaba
Manthaar ki Aamad Marhaba
Sab joom ke bolo Marhaba
Sarkar ki Aamad Marhaba
Dildar ki Aamad Marhaba
Huzur ki Aamad Marhaba
Purnoor ki Aamad Marhaba

Ya Rasulallah Ya Habiballah

Maulood ki gadi hai Chalo Aamena ke ghar par
Aye Khuld ki Baharon Sarkaar aa rahe hein

Jo Mangna hai Maango Jo lena hai so lelo
Duniya ke Taajdaron Sarkaar Aa rahe hein

Salle Ala Pukaro Sarkar Aa rahe hein
Uttho Aye Besaharon Sarkaar Aa rahe hein

Ghar Aamena de ho gayi Aamad Huzur di
Wekhan Firishte Aapda Rukhsar aa gaye

Sare Gunaahgaran di Aj Eid ho gayi
Rabb de Piyaare Ummat de Gamkhwar aa gaye

Khushiyaan da mela aa gaya gam door ho gaye
Dukhiyaan Dilaan de chain te karaar aa gaye

Bhar lo Karam naal Joliyan Aa jaao mangte ohh
Rehmat lutaawan Do jag de Mukhtar Aa gaye




हिंदी (HINDI):



मरहबा बोलो मरहबा मरहबा
ज़ूम कर बोलो मरहबा मरहबा

मोमिनो वक़्ते अदब है आमदे महबूबे रब्ब है
जा-इ-आदाबो तरब है आमदे शाहे अरब है

मरहबा बोलो मरहबा मरहबा
ज़ूम कर बोलो मरहबा मरहबा

गुंचे चटके फूल महके , शाखे गुल पे मुर्ग चहके
ज़ूम जाओ तुमभी कहके , आमदे शाहे अरब है

मरहबा बोलो मरहबा मरहबा
ज़ूम कर बोलो मरहबा मरहबा

ख्वाहिशे ज़ुल्फ़े नबी में, मस्त हैं गुल की शमीं में
ज़ूम कर आयीं नसीमें, आमदे शाहे अरब है

मरहबा बोलो मरहबा मरहबा
ज़ूम कर बोलो मरहबा मरहबा

बज रहे हैं शादियाने , बूत लगे कलमा सुनाने
हर ज़बां पर हैं तराने , आमदे शाहे अरब है

मरहबा बोलो मरहबा मरहबा
ज़ूम कर बोलो मरहबा मरहबा

अब्रे रेहमत छा गया है , काबे पे झंडा गड़ा है
बाबे रेहमत आज वां है आमदे शाहे अरब है

मरहबा बोलो मरहबा मरहबा
ज़ूम कर बोलो मरहबा मरहबा

आमेना बीबी का जाया , बारवी तारीख आया
सुब्हे सादिक़ ने सुनाया , सलवा तुल्लाही अलैक

मरहबा बोलो मरहबा मरहबा
ज़ूम कर बोलो मरहबा मरहबा

नूर आ गया नूर आ गया
हाँ हक़ का
नूर आ गया नूर आ गया

सुब्ह तयबाह में हुई बंटता है बाड़ा नूर का
सदक़ा लेने नूर का आया है तारा नूर का

नूर आ गया नूर आ गया
हाँ हक़ का
नूर आ गया नूर आ गया

में गदा तू बादशाह भर दे पियाला नूर का
नूर दिन दूना तेरा दे डाल सदक़ा नूर का

नूर आ गया नूर आ गया
हाँ हक़ का
नूर आ गया नूर आ गया

नारियों का दौर था दिल जल रहा था नूर का
तुमको देखा हो गया ठंडा कलेजा नूर का

नूर आ गया नूर आ गया
हाँ हक़ का
नूर आ गया नूर आ गया

तेरी नस्ले पाक में है बच्चा बच्चा नूर का
तू एने नूर तेरा सब घराना नूर का

नूर आ गया नूर आ गया
हाँ हक़ का
नूर आ गया नूर आ गया

अये रज़ा ये अहमदे नूरी का फैज़े नूर है
हो गयी मेरी ग़ज़ल पड़ कर क़सीदा नूर का

नूर आ गया नूर आ गया
हाँ हक़ का
नूर आ गया नूर आ गया

मरहबा मरहबा जद्दल हुसैनी मरहबा
मरहबा मरहबा या नूरल एनी मरहबा

सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
अनवार की आमद मरहबा
मंठार की आमद मरहबा
सब ज़ूम के बोलो मरहबा
लब चुमके बोलो मरहबा
सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
हुज़ूर की आमद मरहबा
पुरनूर की आमद मरहबा

मरहबा मरहबा जद्दल हुसैनी मरहबा
मरहबा मरहबा या नूरल एनी मरहबा

पुरनूर है ज़माना , सुब्हे शबे विलादत
पर्दा उठा है किसका , सुब्हे शबे विलादत

मरहबा मरहबा जद्दल हुसैनी मरहबा
मरहबा मरहबा या नूरल एनी मरहबा

दिल जगमगा रहे हैं क़िस्मत चमक उठी है
फैला नया उजाला सुब्हे शबे विलादत

मरहबा मरहबा जद्दल हुसैनी मरहबा
मरहबा मरहबा या नूरल एनी मरहबा

आयी नयी हुकूमत , सिक्का नया चलेगा
आलम ने रंग बदला , सुब्हे शबे विलादत

मरहबा मरहबा जद्दल हुसैनी मरहबा
मरहबा मरहबा या नूरल एनी मरहबा

रूहुल अमीं ने गाड़ा काबे की छत पे झंडा
ता अर्श उड़ा फरेरा सुब्हे शबे विलादत

मरहबा मरहबा जद्दल हुसैनी मरहबा
मरहबा मरहबा या नूरल एनी मरहबा

सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
अनवर की आमद मरहबा
मंठार की आमद मरहबा
सब ज़ूम के बोलो मरहबा
लब चुमके बोलो मरहबा
सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
हुज़ूर की आमद मरहबा
पुरनूर की आमद मरहबा

मरहबा मरहबा जद्दल हुसैनी मरहबा
मरहबा मरहबा या नूरल एनी मरहबा

नौशा बनाओ उनको , दूल्हा बनाओ उनको
है अर्श तक ये शोहरा , सुब्हे शबे विलादत

मरहबा मरहबा जद्दल हुसैनी मरहबा
मरहबा मरहबा या नूरल एनी मरहबा

शादी रची हुई है , बजते हैं शादियाने
दूल्हा बना वो दूल्हा सुब्हे शबे विलादत

मरहबा मरहबा जद्दल हुसैनी मरहबा
मरहबा मरहबा या नूरल एनी मरहबा

आमद का शोर सुन कर गिर आये हैं भिकारी
ग़ैरे खड़े हैं रास्ता सुब्हे शबे विलादत

मरहबा मरहबा जद्दल हुसैनी मरहबा
मरहबा मरहबा या नूरल एनी मरहबा

बांटा है दो जहां में तूने जिया का बाड़ा
दे दे हसन का हिस्सा सुब्हे शबे विलादत

मरहबा मरहबा जद्दल हुसैनी मरहबा
मरहबा मरहबा या नूरल एनी मरहबा

सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
अनवर की आमद मरहबा
मंठार की आमद मरहबा
सब ज़ूम के बोलो मरहबा
लब चुमके बोलो मरहबा
सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
हुज़ूर की आमद मरहबा
पुरनूर की आमद मरहबा

मरहबा मरहबा जद्दल हुसैनी मरहबा
मरहबा मरहबा या नूरल एनी मरहबा

नूर से अपने सरवरे आलम दुनिया जगमगाने आये
गम के मारों दुखियारों को सीने से लगाने आये

नूरे निगाहें अम्बिया मेरे हुज़ूर आ गए
शानो निशाने किब्रिया मेरे हुज़ूर आ गे

नूर से अपने सरवरे आलम दुनिया जगमगाने आये

निखरा हुआ है रूहे गुल , फैली हुई है बू-इ-गुल
बनके बहारे जां-फ़िज़ा मेरे हुज़ूर आ गए

नूर से अपने सरवरे आलम दुनिया जगमगाने आये

अश्कों से भर के जोलियाँ , आँखें बिछा दो राह में
सल्ले अला की दो सदा, मेरे हुज़ूर आ गए

नूर से अपने सरवरे आलम दुनिया जगमगाने आये

सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
अनवर की आमद मरहबा
मंठार की आमद मरहबा
सब ज़ूम के बोलो मरहबा
लब चुमके बोलो मरहबा
सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
हुज़ूर की आमद मरहबा
पुरनूर की आमद मरहबा

या रसूलल्लाह या हबीबल्लाह
पुकारो
या रसूलल्लाह या हबीबल्लाह

या रसूलल्लाह तेरे चाहने वालों की खैर
सब गुलामों का भला हो सब करें तयबाह की सैर

या रसूलल्लाह या हबीबल्लाह

या रसूलल्लाह के नारे से हम को प्यार है
हमने ये नारा लगाया अपना बेडा पार है

सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
अनवर की आमद मरहबा
मंठार की आमद मरहबा
सब ज़ूम के बोलो मरहबा
लब चुमके बोलो मरहबा
सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
हुज़ूर की आमद मरहबा
पुरनूर की आमद मरहबा

या रसूलल्लाह या हबीबल्लाह

खुल्द में होगा हमारा दाखिला इस शान से
या रसूलल्लाह का नारा लगते जाएंगे

या रसूलल्लाह या हबीबल्लाह

रब्बे हब्ली उम्मती कहते हुए पैदा हुए
हक़ ने फ़रमाया के बख्शा अस्सलातु वस्सलाम

सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
अनवर की आमद मरहबा
मंठार की आमद मरहबा
सब ज़ूम के बोलो मरहबा
लब चुमके बोलो मरहबा
सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
हुज़ूर की आमद मरहबा
पुरनूर की आमद मरहबा

या रसूलल्लाह या हबीबल्लाह

चाँद सा चमकाते चेहरा नूर बरसाते हुए
आ गए बद्रूद्दूजा अहलव सहलन मरहबा

आमेना के घर में आक़ा की विलादत हो गयी
मरहबा साद मरहबा अहलव सहलन मरहबा

बेटे अक़्सा बामे काबा बर मक़ामे आमेना
नस्ब परचम हो गया अहलव सहलन मरहबा

पुरनूर है ज़माना सुब्हे शबे विलादत
पर्दा उठा है किसका सुब्हे शबे विलादत

दिन फिर गए हमारे सोते नसीब जागे
खुर्शीद ही वो चमका सुब्हे शबे विलादत

वस्ले बहार आयी, शक्ले निखार आयी
गुलज़ार है ज़माना , सुब्हे शबे विलादत

बारा रबीउल अव्वल तेरी जलक के सदक़े
चमका दिया नसीबा सुब्हे शबे विलादत

तेरी चमक दमक से आलम जलक रहा है
मेरे भी बख्त चमका सुब्हे शबे विलादत

बांटा है दो जहां में तूने जिया का बाड़ा
देदे हसन का हिस्सा सुब्हे शबे विलादत

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

ईदे मिलादुन्नबी है दिल बड़ा मसरूर है
ईद दीवानों की तो बारा रबिउन्नूर है

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

इस तरफ जो नूर है तो उस तरफ भी नूर है
ज़र्रा ज़र्रा सब जहां का नूर से मामूर है

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

गम के बादल छत गए और गम के मारे ज़ूम उठे
आ गया खुशियां लिए माहे रबिउन्नूर है

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

आमेना तुझको मुबारक शाह का मिलाद हो
तेरा आँगन नूर बनके घर का घर सब नूर है

मरहबा मरहबा मरहबा या मुस्तफा

रूहुल अमीं ने गाड़ा काबे की छत पे झंडा
ता अर्श उड़ा फरेरा सुब्हे शबे विलादत

बैते अक़्सा बामे काबा बर मक़ामे आमेना
नस्ब परचम हो गया अहलंव्व सहलंंन मरहबा

सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
अनवर की आमद मरहबा
मंठार की आमद मरहबा
सब ज़ूम के बोलो मरहबा
लब चुमके बोलो मरहबा
सरकार की आमद मरहबा
दिलदार की आमद मरहबा
हुज़ूर की आमद मरहबा
पुरनूर की आमद मरहबा

या रसूलल्लाह या हबीबल्लाह

मौलूद की गड़ी है चलो आमेना के घर पर
अये खुल्द की बहारों सरकार आ रहे हैं

जो मांगना है मांगो , जो लेना है सो लेलो
दुनिया के ताजदरों सरकार आ रहे हैं

सल्ले अला पुकारो सरकार आ रहे हैं
उठो अये बे सहारों सरकार आ रहे हैं

घर आमेना दे हो गयी आमद हुज़ूर की
वेखन फरिश्ते नबियां दा सरदार आ गए

सारे गुनह्गारां दी आज ईद हो गयी
रब्ब दे पियारे उम्मत दे गमख्वार आ गए

खुशियां दा मेला आ गया गम दूर हो गए
दुखियाँ दिलां दे चैन ते करार आ गए

भर लो करम नाल जोलियाँ आ जाओ मांगते ओ
रेहमत लुटावन दो जग दे मुख़्तार आ गए






More Miladunnabi Naat Lyrics:

Click For More Miladunnbi Naats

Comments

Facebook Page

Followers

Popular Naat Lyrics

Wo jiske liye Mehfile Konain saji hai Lyrics || Roman(Eng) and Hindi(हिंदी)

Shahe Do Aalam Salaam Assalaam Lyrics || Roman(Eng) & हिंदी (Hindi)

Allahumma Salle Ala Sayyidina Wa Maulana Muhammadin Lyrics || Roman (Eng) & हिंदी (Hindi)